महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने से हुआ वोटर्स का घोर अपमान : राज ठाकरे

पंजाब के दौरे पर गए राष्ट्रपति जैसे ही दिल्ली लौटे उन्होंने गृह मंत्रालय की ओर से भेजी गई राष्‍ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश पर मुहर लगा दी.जिसके बाद महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लग गया.

  • TV9.com
  • Publish Date - 5:23 am, Wed, 13 November 19

सियासी ड्रामे के बीच महाराष्ट्र में लगाए गए राष्ट्रपति शासन पर अब महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) प्रमुख राज ठाकरे ने भी सवाल खड़े किए हैं. मंगलवार को राज ठाकरे ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने को सीधे तौर पर वोटर्स का अपमान करार दिया.

राज ठाकरे ने ट्वीट कर कहा, “महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाया जाना महाराष्ट्र के वोटर्स का घोर अपमान है.” मालूम हो कि मंगलवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के एप्रूवल के बाद महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगा गया. राष्ट्रपति कोविंद ने केंद्रीय कैबिनेट द्वारा राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की सिफारिश पर भेजे गए नोटिस पर मंगलवार को हस्ताक्षर कर दिए.

पंजाब के दौरे पर गए राष्ट्रपति जैसे ही दिल्ली लौटे उन्होंने गृह मंत्रालय की ओर से भेजी गई राष्‍ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश पर मुहर लगा दी. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 के नतीजे 24 अक्‍टूबर को आए थे, लेकिन अब तक कोई भी दल समर्थन नहीं जुटा सका, जिसके बाद राज्‍यपाल ने राष्‍ट्रपति शासन की संस्‍तुति भेजी दी, जिसे मंजूर कर लिया गया.

ये भी पढ़ें: महाराष्‍ट्र में राष्‍ट्रपति शासन लागू, पढ़ें दिन भर चली सियासी हलचल का पूरा अपडेट