‘कॉफी विद कलेक्टर’ अभियान के तहत DM ने प्लाज्मा डोनर्स के साथ पी कॉफी

जिला अधिकारी सुहास एल वाई (Suhas LY) ने कहा कि जिले के ऐसे कोरोना वॉरियर्स (Corona Warriors) जो संक्रमित होने के बाद ठीक हो चुके हैं, उन्हें रक्तदान करने वालों से प्रेरणा लेकर अपना प्लाज्मा डोनेट (Plasma Donate) करना चाहिए.

Suhas ly

कोरोना संक्रमित व्यक्तियों को जरूरत पड़ने पर प्लाज्मा उपलब्ध हो, इसके लिए गौतमबुद्धनगर (Gautam Budh nagar) के जिलाधिकारी सुहास एल वाई (Suhas LY) ने प्लाज्मा डोनरों का उत्साह बढ़ाने और लोग ज्यादा से ज्यादा प्लाज्मा डोनेट करने के लिए आगे आएं, इस मकसद से जिला अधिकारी ने ‘कॉफी विद कलेक्टर’ अभियान शुरू किया है.

इस कार्यक्रम की शुरुआत गुरुवार को कलेक्ट्रेट के सभागार में 6 प्लाज्मा डोनर (Plasma Donor) के साथ जिलाधिकारी ने कॉफी पीकर की, वहीं उनसे उनके अनुभव के बारे में भी जाना, जिसमें सभी प्लाज्मा डोनरों ने जिला अधिकारी को बताया कि “प्लाज्मा डोनेट करने के बाद उन्हें किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हुई है और वह सभी अच्छा महसूस कर रहे हैं.”

‘एक प्लाज्मा से मिल सकता है दो कोरोना मरीजों को जीवन’

प्लाज्मा डोनरों ने जिलाधिकारी सुहास एल वाई से आगे कहा, “यह हमारा सौभाग्य है कि आज हम जिलाधिकारी के साथ कॉफी पी रहे हैं और हमें इस बात पर भी गर्व है कि हमारे एक प्लाज्मा से दो कोरोना संक्रमित व्यक्तियों (Coronavirus Infected) को जीवन मिल सकता है. सभी प्लाज्मा डोनरों ने जिले के ऐसे कोरोना योद्धा (Corona Warriors) जो कोरोना संक्रमित होकर ठीक हुए हैं. उन्हें प्लाज्मा डोनेट करने के लिए आगे आना चाहिए ताकि उनके प्लाज्मा से अन्य कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के जीवन को बचाया जा सके.”

प्लाज्मा डोनेट के लिए नहीं आना पड़ेगा हॉस्पिटल

जिला अधिकारी सुहास एल वाई ने कहा कि जिले के ऐसे कोरोना वॉरियर्स जो संक्रमित होने के बाद ठीक हो चुके हैं, उन्हें ब्लड डोनरों (रक्तदान करने वालों) से प्रेरणा लेकर अपना प्लाज्मा डोनेट (Plasma Donate) करना चाहिए, ताकि उनके प्लाज्मा से अन्य संक्रमित व्यक्तियों के जीवन को सुरक्षित बनाया जा सके.”

ये भी पढ़ें- कोरोना: एकनाथ शिंदे पॉजिटिव, महाराष्ट्र सरकार के अब तक 13 मंत्री संक्रमित

उन्होंने कहा कि “एक कोरोना वॉरियर के प्लाज्मा से दो संक्रमित व्यक्तियों के जीवन को बचाया सकता है. वहीं, जिले में सभी कोरोना संक्रमित व्यक्तियों को सुरक्षित बनाने के उद्देश्य से कॉफी विद कलेक्टर कार्यक्रम की शुरुआत की गई है, ताकि सभी प्लाज्मा डोनरों का उत्साह बढ़ाया जा सके.”

जिलाधिकारी ने यहां पर सभी जनपद वासियों को यह भी जानकारी दी कि अब किसी भी प्लाज्मा डोनर को हॉस्पिटल नहीं आना पड़ेगा. ऐसे कोरोना योद्धा जिम्स के ब्लड बैंक के मोबाइल नंबर पर फोन कर सकते हैं. जिम्स की ब्लड बैंक की टीम उनके घर पर पहुंचकर, उनकी सुविधा के अनुसार उनका प्लाज्मा इकट्ठा करेगी.” (IANS)

ये भी पढ़ें : कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव फिर भी लंग्स इन्फेक्शन, कहीं आप में भी तो नहीं कोविड-19 के ये लक्षण?

Related Posts