96 साल के ग्यूसेप पेटरनो बने इटली के सबसे बुजुर्ग स्टूडेंट, द्वितीय विश्व युद्ध में हुए थे शामिल

ग्यूसेप पेटरनो (Giuseppe Paterno) ने इटली की पलेर्मो यूनिवर्सिटी से ऑनर्स के साथ इतिहास और दर्शनशास्त्र में अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री पूरी की है. उन्होंने 2017 में ग्रेजुएशन के लिए दाखिला लिया था.
oldest university graduate, 96 साल के ग्यूसेप पेटरनो बने इटली के सबसे बुजुर्ग स्टूडेंट, द्वितीय विश्व युद्ध में हुए थे शामिल

कुछ नया शुरू करने के लिए कभी भी देर नहीं होती. ये बात साबित की है इटली के एक 96 वर्षीय ग्यूसेप पेटरनो (Giuseppe Paterno) नाम के शख्स ने. द्वितीय विश्व युद्ध (World War II) के ये दिग्गज इटली के सबसे बुजुर्ग यूनिवर्सिटी ग्रेजुएट बन गए हैं.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

ग्यूसेप पेटरनो ने इटली की पलेर्मो यूनिवर्सिटी (University of Palermo) से ऑनर्स के साथ इतिहास और दर्शनशास्त्र में अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री पूरी की है. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार, पढ़ने और अध्ययन में गहरी रुचि के बावजूद, पेटरनो अपनी युवावस्था में यूनिवर्सिटी में नहीं जा पाए. वो सिसिली में एक गरीब परिवार में बड़े हुए और केवल बुनियादी शिक्षा ही प्राप्त कर सके थे. हालांकि, यह महसूस करने के बाद कि यह “अभी या कभी नहीं” था, पेटरनो ने 31 साल की उम्र में हाई स्कूल पास किया और बाद में 2017 में ग्रेजुएशन के लिए दाखिला लिया.

oldest university graduate, 96 साल के ग्यूसेप पेटरनो बने इटली के सबसे बुजुर्ग स्टूडेंट, द्वितीय विश्व युद्ध में हुए थे शामिल
Picture credit: Reuters

पेटरनो को उनकी इस उपलब्धि पर बधाई देने के लिए इंटरनेट के जरिए दुनिया भर से मैसेज आ रहे हैं.

द्वितीय विश्व युद्ध में सेवा करने के लिए नौसेना में शामिल होने के बाद, पेटरनो ने रेलवे में काम किया. एक स्टूडेंट के रूप में, उन्होंने Google में अवेलेबल टेक्स्टबुक्स को प्राथमिकता दी और हमेशा अपनी मां से गिफ्ट में मिले टाइपराइटर पर अपना निबंध टाइप किया. यहां तक कि कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) के दौरान भी वो अपने लक्ष्य से दूर नहीं हुए और अपनी पढ़ाई को जारी रखा.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts