भारत की महिला जिसने डिलिवरी से एक दिन पहले तैयार की कोरोना जांच किट

भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर कम टेस्ट किए जाने के सवाल कई लोग उठा रहे हैं. लेकिन इसी बीच एक वायरोलॉजिस्ट ने अपने बच्चे की डिलिवरी से ठीक पहले भारत में ही टेस्ट किट तैयार करने में सफलता हासिल कर ली है.

भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर कम टेस्ट किए जाने के सवाल कई लोग उठा रहे हैं. लेकिन इसी बीच एक वायरोलॉजिस्ट ने अपने बच्चे की डिलिवरी से ठीक पहले भारत में ही टेस्ट किट तैयार करने में सफलता हासिल कर ली है. अब उम्मीद है कि भारत में अधिक संख्या में लोगों के कोरोना वायरस टेस्ट होंगे.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

पुणे का माईलैब (Mylab Discovery) भारत का पहला ऐसा फर्म है जिसे कोरोना वायरस टेस्ट किट बनाने और बेचने के लिए अनुमति मिल गई है. इसी हफ्ते माईलैब ने पहले बैच की 150 टेस्ट किट पुणे, मुंबई, दिल्ली, गोवा और बेंगलुरू में सप्लाई की है.

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, माईलैब के डायरेक्टर डॉ. गौतम वानखेडे ने कहा है कि टेस्ट किट का अगला बैच सोमवार को भेजा जाएगा. माईलैब का कहना है कि हफ्ते में वह एक लाख टेस्ट किट की सप्लाई कर सकता है और जरूरत पड़ने पर इसे 2 लाख भी कर सकता है. ये कंपनी एचआईवी और हेपेटाइटिस बी की जांच किट बनाती रही है.

देखिए #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

खास बात ये है कि एक माईलैब किट से 100 सैंपल की जांच की जा सकती है. इस टेस्ट किट से जांच का खर्च 1200 रुपये आता है, जबकि विदेशों से मंगाए गए किट से जांच करने पर 4500 रुपये खर्च होते हैं. माईलैब का कहना है कि ढाई घंटे में इस टेस्ट किट से रिजल्ट मिल जाता है.

माईलैब रिसर्च एंड डेवलपमेंट की प्रमुख और वायरोलॉजिस्ट मीनल दखावे भोसले ने किट तैयार करने वाली टीम का नेतृत्व किया है. उन्होंने कहा कि 3-4 महीने नहीं, बल्कि सिर्फ डेढ़ महीने में इसे तैयार किया गया है. दिलचस्प बात ये है कि टेस्ट किट बनाने की डेडलाइन के साथ-साथ भोसले की डिलिवरी की डेडलाइन भी नजदीक आ रही थी. पिछले हफ्ते ही उन्होंने एक बेटी को जन्म दिया है.

देखिए फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

भोसले ने कहा कि यह इमरजेंसी था, इसलिए मैंने चैलेंज लिया. मैं देश के लिए काम करना चाहती थी. उन्होंने कहा कि 10 लोगों की टीम ने लगातार कड़ी मेहनत की थी. भोसले ने डिलिवरी से सिर्फ एक दिन पहले 18 मार्च को किट तैयार कर नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) को मूल्यांकन के लिए भेजा था. इसके बाद सरकार ने टेस्ट किट को अनुमति दे दी.

Related Posts