झारखंड की इस बेटी ने मड़ुआ बेचकर खरीदी थी हॉकी स्टिक, अब ट्रेनिंग के लिए जाएगी अमेरिका

पुंडी ने बताया कि हॉकी स्टिक खरीदने से लेकर मैदान में खेलने तक के लिए काफी जूझना पड़ा है, लेकिन लक्ष्य सिर्फ अमेरिका जाना नहीं है. हमें निक्की दीदी (भारतीय हॉकी टीम की सदस्य निक्की प्रधान) जैसा बनना है. देश के लिए हॉकी खेलना है.

झारखंड के नक्सल प्रभावित जिला खूंटी के एक छोटे से गांव हेसल की रहने वाली पुंडी सारू ने हॉकी की ट्रेनिंग लेने के लिए अमेरिका जा रही है. बता दें कि रांची, खूंटी, लोहरदगा, गुमला और सिमडेगा की 107 बच्चियों को रांची के ‘हॉकी कम लीडरशिप कैम्प’ में प्रशिक्षण दिया गया है. सात दिनों के कैम्प में पांच बच्चियों का अमेरिका जाने के लिए चयन हुआ, जिसमें पुंडी का नाम भी शामिल है.

यह ट्रेनिंग यूएस कंसोलेट (कोलकाता) और स्वयंसेवी संस्था ‘शक्तिवाहिनी’ द्वारा आयोजित था. पुंडी का खूंटी के हेसल गांव से निकलकर सीधे अमेरिका जाने का सपना इतना आसान नहीं था. पुंडी को काफी संघर्ष करने के बाद उसका यह सपना पूरा हुआ है.

पांच भाई-बहनों में दूसरे नंबर की पुंडी का बड़ा भाई सहारा सारू इंटर (12वीं) तक की पढ़ाई कर पढ़ाई छोड़ चुका है. पुंडी नौंवी कक्षा की छात्रा है. पुंडी की एक और बड़ी बहन थी, जो अब नहीं रही. पिछले साल मैट्रिक की परीक्षा में फेल हो जाने के कारण उसने अपने गले में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली. उस वक्त पुंडी टूट चुकी थी.

मड़ुआ बेचकर खरीदी हॉकी स्टिक

उस दौर में पुंडी दो महीने तक हॉकी से दूर रही थी, मगर वह हॉकी को भूली नहीं थी. पुंडी के पिता एतवा उरांव अब घर में रहते हैं. पहले वे दिहाड़ी मजदूरी का काम करते थे. मजदूरी करने के लिए हर दिन साइकिल से खूंटी जाते थे. साल 2012 में एक दिन साइकिल से लौटने के दौरान किसी अज्ञात वाहन ने टक्कर मार दी, जिससे उनका हाथ टूट गया. प्लास्टर से हाथ जुड़ गया, लेकिन उसके बाद से वे मजदूरी करने लायक नहीं रहे.

पुंडी बताती है कि तीन साल पहले जब उसने हॉकी खेलना शुरू किया था और झारखंड के अन्य हॉकी खिलाड़ियों की तरह नाम रौशन करने का सपना देखा था, तब उसके पास हॉकी स्टिक तक नहीं थी. पुंडी ने बताया कि हॉकी स्टिक खरीदने के लिए घर में पैसे नहीं थे, तब मैंने मड़ुआ (एक प्रकार का अनाज) बेचा और छात्रवृत्ति में मिले 1500 रुपये को उसमें जोड़कर हॉकी स्टिक खरीदी.

खेलने के लिए रोज 8 किलोमीटर चलाना पड़ता है साइकिल

पुंडी के पिता एतवा सारू जानवरों को चराने का काम करते हैं. मां चंदू घर का काम करती है. घर की पूरी अर्थव्यवस्था खेती और जानवरों के भरण पोषण और उसके खरीद बिक्री पर निर्भर है. घर में गाय, बैल, मुर्गा, भेड़ और बकरी है. पुंडी ने बताया कि पिछले तीन साल से हर दिन अपने गांव से आठ किलोमीटर साइकिल चलाकर हॉकी खेलने खूंटी के बिरसा मैदान जाती हूं.

सिर्फ अमेरिका जाना नहीं है लक्ष्य 

खूंटी में खेलते हुए पुंडी कई ट्रॉफी जीत चुकी है. पुंडी के प्रशिक्षक भी उसके मेहनत के कायल हैं. वे कहते हैं कि पुंडी मैदान में खूब पसीना बहाती है. अमेरिका जाने के लिए चयन होने के बाद पुंडी ने बताया कि हॉकी स्टिक खरीदने से लेकर मैदान में खेलने तक के लिए काफी जूझना पड़ा है, लेकिन लक्ष्य सिर्फ अमेरिका जाना नहीं है. हमें निक्की दीदी (भारतीय हॉकी टीम की सदस्य निक्की प्रधान) जैसा बनना है. देश के लिए हॉकी खेलना है. पुंडी ने बताया कि पहले पापा बोलते थे कि खेलने में इतनी मेहनत कर रही हो, क्या फायदा होगा? कुछ काम करो तो घर का खर्च भी निकलेगा, लेकिन मां ने हमेशा साथ दिया और उत्साहित किया.

यूएस स्टेट की सांस्कृतिक विभाग (असिस्टेंट सेक्रेटरी ऑफ यूएस, डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट, फॉर एडुकेशनल एंड कल्चरल अफेयर) की सहायक सचिव मैरी रोईस बताती हैं कि चयनित सभी लड़कियां 12 अप्रैल को यहां से रवाना होंगी और अमेरिका के मिडलबरी कॉलेज, वरमोंट में पुंडी को हॉकी का प्रशिक्षण दिया जाएगा. शक्तिवाहिनी के प्रवक्ता ऋषिकांत ने कहा कि इन लड़कियों के साथ दो महिलाएं और पुरुष भी अमेरिका जाएंगे. इन लड़कियों को वहां 21 से 25 दिनों का प्रशिक्षण दिया जाएगा.

(आईएएनएस इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें – 

झारखंड: CAA और NRC के समर्थन में VHP की रैली में भड़की हिंसा, स्कूल-कॉलेज भी बंद

पत्थलगड़ी: झारखंड में 7 लोगों की हत्या, CM ने बुलाई अहम बैठक, जानें क्या है आंदोलन की वजह

झारखंड : 24 दिन बाद भी मंत्रिमंडल विस्तार नहीं, गैरों के साथ अपने भी कस रहे तंज!

Related Posts