10,000 की सैलरी पाने वाले इंजीनियर की कमाई हुई 50 लाख महीना, इस आइडिया ने बदली जिंदगी

जुबैर रहमान 21 साल की उम्र में इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर के तौर पर ऑफिसों में जाकर सीसीटीवी लगाते थे.

एक आइडिया ने 26 साल के इंजीनियर जुबैर की पूरी जिंदगी बदलकर रख दी. कभी सीसीटीवी ऑपरेटर की नौकरी कर 10 हजार प्रतिमाह कमाने वाले जुबैर अब प्रतिमाह 50 लाख रुपये तक कमाते हैं. जुबैर ने अपनी सफलता की Your Story  से साझा की है.

जुबैर रहमान साल 2014 में तमिलनाडु के तिरुपुर में CCTV ऑपरेटर की जॉब करते थे. ये उनकी पहली जॉब थी. 21 साल की उम्र में वो इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर के तौर पर ऑफिसों में जाकर सीसीटीवी लगाते थे.

फिर एक दिन जुबैर एक ई-कॉमर्स कंपनी के ऑफिस में सीसीटीवी लगाने गए तो उन्हें एक आइडिया सूझा. उनके दिमाग में कंपनी के संचालन को लेकर उत्सुकता बढ़ गई. उन्होंने ये जानने की कोशिश की कि कंपनी ऑनलाइन सोर्सिंग और आइटम बेचकर पैसा कैसे कमा रही है.

इसके बाद जुबैर ने नौकरी छोड़ दी और कपड़ों का बिजनेस शुरू किया. हालांकि कई लोगों ने जुबैर को नौकरी न छोड़ने की समझाइश भी दी लेकिन उनके मजबूत इरादों पर इन बातों का कोई असर नहीं हुआ. बिजनेस शुरू करने के बाद आए उतार-चढ़ावों के बाद भी वो टिके रहे. जुबैर के पिता एक कपड़ा निर्माता थे, उनके एक्सपीरिएंस से जुबैर को बिजनेस में आसानी हुई.

जुबैर ने ऑनलाइन डिमांड में रहने वाले कपड़ों की डिमांड जानने के लिए दोस्तों की राय भी जानी. जुबैर ने कम मात्रा में कपड़े खरीदे और उन्हें ऑनलाइन बेचना शुरू किया. ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट पर कपड़े लिस्टेड करने के बाद पहले तो उन्हें दिन में ऐड-दो ऑर्डर मिलते थे लिकिन धीरे-धीरे उनके काम ने रफ्तार पकड़ी. उन्होंने बच्चों के कपड़ों को कॉम्बो पैक में बेचकर काफी मुनाफा कमाया. अब इस बिजनेस से जुबैर 50 लाख रुपये प्रतिमाह कमाते हैं.

जुबैर की बिजनेस स्ट्रेटेजी की बदौलत ‘द फैशन फैक्टरी’ को अब हर दिन 200 से 300 ऑर्डर मिलते हैं. जुबैर की कंपनी सालाना 6.5 करोड़ रुपये कमाती है. कंपनी ने अगले एक साल में 12 करोड़ रुपये का लक्ष्य तय किया है.