तेलंगाना के शख्‍स ने बनाया हैंड्स फ्री वॉशिंग स्‍टेशन, पैर चलाओ और हैंडवॉश करो

पिछले कुछ हफ्तों में, राजू (Mupparapu Raju) नाम के शख्स ने ऐसी 10 मशीनें बनाई हैं जो वर्तमान में जिला कलेक्टर, नगर निगम, नगर पालिका के कार्यालयों और पुलिस चौकियों के बाहर स्थापित हैं.
foot operated handwash machine, तेलंगाना के शख्‍स ने बनाया हैंड्स फ्री वॉशिंग स्‍टेशन, पैर चलाओ और हैंडवॉश करो

कोरोना वायरस (Coronavirus) को फैलने से रोकने के लिए देशभर को लॉकडाउन (Lockdown) किया गया है. ऐसे में तेलंगाना के वारंगल में रहने वाले 30 वर्षीय मुप्पारापू राजू (Mupparapu Raju) अपने घर तक ही सीमित रह गए, और उन्होंने इस दौरान अपने जूनून को मौका देने का फैसला किया. जिसका नतीजा रहा पैडल से ऑपरेट होने वाली लिक्विड साबुन और पानी निकालने वाली हैंडवॉश मशीन. इस मशीन ने कुछ ही दिनों में अभी ध्यान आकर्षित किया है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक पिछले कुछ हफ्तों में, राजू ने ऐसी 10 मशीनें बनाई हैं जो वर्तमान में जिला कलेक्टर, नगर निगम, नगर पालिका के कार्यालयों और पुलिस चौकियों के बाहर स्थापित हैं.

बीएससी ग्रेजुएट (वनस्पति विज्ञान, जूलॉजी, रसायन विज्ञान) राजू ने अपने सपने को साकार करने के लिए गांव के एक वेल्डर के साथ घर से काम किया.

यहां से मिली प्रेरणा

राजू ने बताया कि कोरोना वायरस (COVID-19) को लेकर लगातार दी जा रही हाथ धोने की सलाह ने उनका ध्यान खींचा. वो बेटे और पत्नी के साथ घर पर थे और करने को कुछ खास काम नहीं था. “सेना द्वारा उपयोग की जाने वाली कुछ चीजों को देखने के बाद, मैंने सोचा कि क्यों न यहां कुछ आजमाया जाए.”

हजार से ज्यादा लोग धो सकते हैं हाथ

राजू ने बताया कि उनकी बनाई पैडल ऑपरेटेड लिक्विड सोप और वाटर डिस्पेंसर मशीन में 500-लीटर पानी की टंकी और 5-लीटर कंटेनर इस्तेमाल किया गया है. मशीन पूरी तरह से फिल करने के बाद इससे एक हजार से अधिक लोग अपने हाथ धो सकते हैं. मशीन में लोहे के फ्रेम पर दो पैडल रखे गए हैं. ये पैडल बाइक में इस्तेमाल किए गए क्लच केबल के जरिए नल से कनेक्ट हैं. इस तरह की पहली मशीन करीमनगर नगर निगम कार्यालय के बाहर लगाई गई थी.

स्ट्रीट लाइटिंग डिवाइस बेचने वाली दुकान चलाने वाले राजू बताते हैं “यह मेरे लिए कोई व्यवसाय नहीं है. मैं एक मशीन के केवल 1000 रुपये ले रहा हूं, ”

दूसरी मशीनें भी बना चुके है राजू

इससे पहले राजू ने एक पब्लिक सोलर चार्जर (Solar Charger) बनाया था, जिससे एक ही बार में आठ मोबाइल फोन चार्ज किए जा सकते हैं. वो बताते हैं कि कुछ बस स्टेशनों और रेलवे स्टेशनों पर इसे स्थापित किया गया है. इसी तरह, उन्होंने एक सोलर घास काटने वाली मशीन और साथ ही एक कीटनाशक स्प्रेयर भी बनाया था जो सफाई कर्मचारियों और किसानों के उपयोग के लिए सोलर एनर्जी का उपयोग करता है.

राजू का कहना है कि अपने जूनून को आगे बढ़ाने के लिए हमेशा फॉर्मल ट्रेनिंग की जरूरत नहीं होती. “मैं अक्सर घर पर चीजों को बनाने की कोशिश करता हूं उनमें से कई काम नहीं करते तो कुछ करते हैं.”

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

Related Posts