8 घंटे 17 मिनट में लगातार 100 किलोमीटर दौड़ने वाले पहले भारतीय, जानें कौन हैं नेवी ऑफिसर अभिनव झा

लेफ्टिनेंट कमांडर अभिनव झा ने स्टेडियम में 250 गोल चक्कर लगाकर यह रिकॉर्ड बनाया और बीच में धीरे चलने या रेस्ट करने के लिए कोई ब्रेक नहीं लिया. चंडीगढ़ में आयोजित इस दौड़ में अभिनव झा ने 22 अन्य प्रतियोगियों को पछाड़कर 8 घंटे 17 मिनट 2 सेकेंड में दौड़ पूरी की.
Inspirational story of Lieutenant Commander Abhinav Jha, 8 घंटे 17 मिनट में लगातार 100 किलोमीटर दौड़ने वाले पहले भारतीय, जानें कौन हैं नेवी ऑफिसर अभिनव झा

भारतीय नौसेना में लेफ्टिनेंट कमांडर के पद पर तैनात अभिनव झा ने 8 घंटे 17 मिनट में 100 किलोमीटर दौड़कर नया कीर्तिमान स्थापित किया है. विशाखापट्टनम के अभिनव झा बिना बीच में रुके 100 किलोमीटर तक दौड़ने वाले पहले भारतीय बन गए हैं.

चंडीगढ़ में आयोजित इस दौड़ में अभिनव झा ने 22 अन्य प्रतियोगियों को पछाड़कर 8 घंटे 17 मिनट 2 सेकेंड में दौड़ पूरी की. इस दौड़ का कट ऑफ टाइम 15 घंटे का था. लेफ्टिनेंट कमांडर झा ने बताया कि वह वर्ल्ड 100 किलोमीटर चैंपियनशिप में भाग लेने की ट्रेनिंग स्वयं ले रहे हैं जिसका आयोजन सितंबर 2020 में नीदरलैंड में हो रहा है.

लेफ्टिनेंट कमांडर अभिनव झा ने स्टेडियम में 250 गोल चक्कर लगाकर यह रिकॉर्ड बनाया और बीच में धीरे चलने या रेस्ट करने के लिए कोई ब्रेक नहीं लिया. उन्होंने बताया ‘मैंने एनर्जी ड्रिंक की कुछ बोतलें तैयार की थीं. हर चार किलोमीटर पर उनमें से एक बोतल मेरे दोस्त ने मुझे दी. मैंने सिर्फ वह बोतल लेने के लिए अपनी रफ्तार कम की. इसके अलावा मैंने पूरी दौड़ में एक पेस बनाकर रखा.’

Inspirational story of Lieutenant Commander Abhinav Jha, 8 घंटे 17 मिनट में लगातार 100 किलोमीटर दौड़ने वाले पहले भारतीय, जानें कौन हैं नेवी ऑफिसर अभिनव झा

ऑफिसर ने इस जीत का श्रेय भारतीय नौसेना और विजाग की मरीन कमांडो यूनिट को दिया है जिसने उन्हें दौड़ में हिस्सा लेने को प्रोत्साहित किया. मैदान में दौड़ना मरीन कमांडोज के लिए नई बात नहीं है लेकिन 11,000 फीट की ऊंचाई पर लेह में या कच्छ के रण में दौड़ना हंसी खेल नहीं है. क्रोएशिया में साल 2018 में आयोजित वर्ल्ड 100 किलोमीटर चैंपियनशिप में भाग लेने वाले अभिनव झा पहले भारतीय थे.

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक ऐसी लंबी दौड़ में भाग लेने की तैयारी झा ने केवल तीन साल पहले शुरू की. 34 वर्षीय अभिनव झा बताते हैं ‘कमांडो के तौर पर ट्रेनिंग ने मेरी फिजिकल और मेंटल हेल्थ को मजबूत किया और मेरी स्ट्रेंथ को घंटों बनाए रखा.’ वह बताते हैं कि नेवी की वॉइट यूनिफॉर्म और पानी, हवा, जमीन पर काम करने की मल्टी डायमेंशनल खूबियों ने हमेशा आकर्षित किया.

सेल्फ कोचिंग के तहत अभिनव झा रोज 12 से 15 किलोमीटर की वॉक करते हैं और हफ्ते में दो बार 20 से 25 किलोमीटर दौड़ते हैं. कभी-कभी वह 30 से 40 किलोमीटर की दौड़ भी लगाते हैं. अपनी रेगुलर फिटनेस के लिए वह शाकाहारी खाने पर जोर देते हैं और पैकिंग वाले खाने से बचते हैं. इसके साथ ही वे अगले महीने गुड़गांव में होने वाली 12 घंटे की लगातार दौड़ के लिए खुद को तैयार कर रहे हैं.

ये भी पढ़ेंः

स्‍पेस में 328 दिन बिताकर लौटीं क्रिस्‍टीना कोच, तोड़ दिया इन महिलाओं का रिकॉर्ड

छोटी सी रसोई से शुरू हुआ बिजनेस अब 35 करोड़ तक पहुंच गया

कभी सड़कों पर बेचे थे गोलगप्पे, अब सेमीफाइनल में शतकवीर बन भारत को पहुंचाया वर्ल्ड कप फाइनल में

कबाड़ से बनाए 600 ड्रोन, दुनिया भर में मेडल हासिल कर रोशन किया भारत का नाम

इस खास किस्म का आलू उगाकर सालाना 25 करोड़ कमाता है ये गुजराती

Related Posts