अमेरिकी कम्युनिकेशन की CTO बनीं भारत की मोनीषा घोष, यह पद हासिल करने वाली पहली महिला

मोनीषा घोष 13 जनवरी से अजीत पई को तकनीक और इंजीनियरिंग के मुद्दे पर सलाह देंगी. साथ ही टेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट के साथ काम भी करेंगी.

भारतीय मूल की एक बेटी ने विदेशी सरजमीं पर भारत वासियों का सीना गर्व से चौड़ा कर दिया है. हम बात कर रहे हैं भारतीय मूल की डॉक्टर मोनीषा घोष की.

डोनाल्ड ट्रंप सरकार ने मोनीषा घोष को अमेरिका के ताकतवर फेडरल कम्युनिकेशन कमीशन (संघीय संचार आयोग) में चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर (सीटीओ) नियुक्त किया है.

मोनीषा इस पद पर पहुंचने वाली पहली महिला हैं, जो कि 13 जनवरी को अपना पद संभालेंगी. इस वक्त फेडरल कम्युनिकेशन कमीशन के चेयरमैन भारतीय मूल के अजीत पई हैं.

भारत की यह बेटी मोनीषा घोष 13 जनवरी से उन्हें तकनीक और इंजीनियरिंग के मुद्दे पर सलाह देंगी. इसके अलावा आयोग के टेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट के साथ काम भी करेंगी.

बता दें मोनीषा घोष ने 1986 में आईआईटी खड़गपुर से बीटेक किया था. इसके बाद 1991 में उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ सदर्न कैलिफोर्निया से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में पीएचडी की थी.

इससे पहले घोष नेशनल साइंस फाउंडेशन के कम्प्यूटर नेटवर्क डिविजन में प्रोग्राम डायरेक्टर के तौर पर काम कर रही थीं. इसके अलावा मोनीषा यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो में रिसर्च प्रोफेसर भी रही हैं.

 

ये भी पढें: CAA और NRC पर बोले पीएम मोदी- ‘कुछ पढ़े-लिखे नक्सली अफवाह फैला रहे हैं’

जिन्ना की सभा के बाद राजनेताओं की पसंदीदा जगह बनी रामलीला मैदान, पढ़ें आजादी से पहले और बाद का इतिहास

मायावती का भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर पर हमला, बोलीं- जहां चुनाव होता है, वहां जबरन जेल चला जाता है