देश की पहली नेत्रहीन महिला IAS ने तिरुवनंतपुरम में संभाला सब कलेक्टर का पद

प्रांजल जब ग्रेजुएशन कर रही थीं तो उन्होंने पहली बार UPSC का आर्टिकल पढ़ा और तभी ठान लिया कि वो IAS ऑफिसर बन कर रहेंगी.

तिरुवनंतपुरम में सोमवार को देश की पहली नेत्रहीन महिला IAS अफसर प्रांजल पाटिल ने सब कलेक्‍टर का पदभार संभाल लिया. प्रांजल अब केरल कैडर में नियुक्‍त होने वाली पहली नेत्रहीन IAS अफसर बन चुकी हैं.

जन्‍म से ही प्रांजल की नजर कमजोर थी और जब 6 साल की हुईं तो उनकी दृष्टि पूरी तरह से खत्‍म हो गई. इसके बावजूद प्रांजल की हिम्‍मत नहीं टूटी. वो जीवन में कुछ करने की लगन के साथ आगे बढ़ती रहीं. पहले ही अटेंप्ट में उन्होंने UPSC की सिविल सेवा परीक्षा में 773वीं रैंक हासिल की है.

प्रांजल महाराष्‍ट्र के उल्‍हासनगर की निवासी हैं. उन्होंने 10वीं तक की पढ़ाई मुबंई के दादर स्थित श्रीमति कमला मेहता स्कूल से की है. इस स्कूल में ब्रेल लिपि में पढ़ाई होती थी. इसके बाद प्रांजल ने चंदाबाई कॉलेज से आर्ट्स में 12वीं पास किया, जिसमें उनके 85 फीसदी अंक आए. उन्होंने मुंबई के सेंट जेवियर कॉलेज से बीए की पढ़ाई की.

बीए करने के बाद JNU दिल्ली से एमए किया. प्रांजल ने इस दौरान एक खास सॉफ्टवेयर जॉब ऐक्सेस विद स्पीच की मदद ली, जिसे आंखों से अक्षम लोगों के लिए बनाया गया है.

प्रांजल जब ग्रेजुएशन कर रही थीं तो उन्होंने पहली बार UPSC का आर्टिकल पढ़ा और फिर परीक्षा से जुड़ी जानकारियां जुटाना शुरू किया. इसी दौरान प्रांजल ने ठान लिया कि वो IAS ऑफिसर बन कर रहेंगी.