पढ़ाने से प्यार की मिसालः CAT के 6 बार टॉपर रहे इस शख्स ने नहीं लिया IIM में एडमिशन

साल 2019 में 43 साल के पैट्रिक डिसूजा देश भर के टॉप- 10 उम्मीदवारों में शामिल थे जिन्होंने 100 पर्सेंटाइल अंक हासिल किया था. अब वह एक कोचिंग इंस्टीट्यूट के टीचर हैं.

कॉमन एडमिशन टेस्ट (CAT) पास करना लाखों स्टूडेंट का सपना होता है. पास करने वाले स्टूडेंट टॉप होना चाहते हैं और टॉप करने वालों को देश के सबसे अच्छे भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM) से बुलावा आ जाता है. हैरत तब होती है जब जानते हैं कि किसी स्टूडेंट ने 17 बार कैट परीक्षा दी हो और उसमें 6 बार टॉप किया हो फिर भी आईआईएम में दाखिला न लिया हो. ऐसे ही एक अनोखे स्टूडेंट और टीचर हैं पैट्रिक डिसूजा. उन्होंने कैट परीक्षा में छह बार टॉप किया है और वह पढ़ाने के पेशे से जुड़े हुए हैं.

साल 2019 में 43 साल के पैट्रिक डिसूजा देश भर के टॉप- 10 उम्मीदवारों में शामिल थे जिन्होंने 100 पर्सेंटाइल अंक हासिल किया था. अब वह एक कोचिंग इंस्टीट्यूट के टीचर हैं. इतनी बार टॉप करने के बावजूद उनका आईआईएम में दाखिला लेने का कोई इरादा है.

मुंबई के पास ठाने के रहने वाले पैट्रिक ने बताया कि लगातार परीक्षा देते रहने से वह कैट परीक्षा क्रैकिंग की तकनीकों से अपडेट रहते हैं. उन्होंने कहा, ‘कैट टैस्ट महज ज्ञान का आकलन करने के लिए एक परीक्षा नहीं है, बल्कि यह भी टेस्ट करता है कि उम्मीदवारों के मनोविज्ञान के अलावा, उस नॉलेज को कैसे लागू किया जाता है.’

महज तकनीक आजमाने के लिए देते हैं टेस्ट

डिसूजा के मुताबिक वह कैट की परीक्षा के लिए मैं खास तकनीकों को आजमाते हैं. उन्होंने साल 2004 में पहली बार सिर्फ यह देखने के लिए परीक्षा दी कि क्या उनकी तकनीक अब भी काम करती है. वैसे उन्होंने साल 1996 में पहली बार कैट की परीक्षा पास थी. उस समय उन्होंने टॉप स्कोर नहीं किया था. अपनी पढ़ाई पूरी होने के बाद डिसूजा ने कुछ समय मार्केटिंग फील्ड में काम किया.

उसके बाद 2002 में डिसूजा पढ़ाने के पेशे में आ गए. इस पेशे में भी उनकी खास पहचान है. वह एक ऐसे ट्रेनर हैं जिनके पढ़ाए हुए छात्रों में से लगभग एक दर्जन ने 99 पर्सेंटाइल हासिल किया है. हालांकि किसी ने भी डिसूजा की तरह 100 पर्सेंटाइल स्कोर नहीं किया है. डिसूजा का कहना है कि वह खुद इतनी बार टेस्ट में इसलिए बैठते हैं कि वह अपने तकनीकों को और बेहतर कर सकें, जिससे अपने स्टूडेंट को हर तरह से तैयार करने में कोई कसर बाकी न रह जाए.

कैट परीक्षा के लिए साल 2019 में कुल 2,44,169 उम्मीदवारों ने आवेदन किया था. पिछले साल यानी 2018 की तुलना में यह तीन हजार अधिक है. बीते साल 2,09,405 उम्मीदवार परीक्षा में शामिल हुए, जिनमें से 73,326 महिलाएं थीं. 99 पर्सेंटाइल से अधिक स्कोर करने वाले ज्यादातर स्टूडेंट तब इंजीनियरिंग और कॉमर्स की पढ़ाई करने वाले थे. इस साल 10 तो बीते साल 11 स्टूडेंट ने 100 पर्सेंटाइल स्कोर कर टॉप किया था.

ये भी पढ़ें –

पढ़ाई छोड़ करगिल की जंग लड़ी, रिटायरमेंट के बाद एक सैनिक ने यूं सच किया सपना

अमेरिकी कम्युनिकेशन की CTO बनीं भारत की मोनीषा घोष, यह पद हासिल करने वाली पहली महिला