150 किमी की दूरी तय कर एग्जाम देने पहुंची यह आदिवासी लड़की, A+ Grade से हुई पास

श्रीदेवी (Sridevi) को दसवीं की बाकी परीक्षाएं देने के लिए 150 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ी थी. इस दौरान वह सात किलोमीटर पैदल चलीं.
Tamil Nadu Sridevi secured, 150 किमी की दूरी तय कर एग्जाम देने पहुंची यह आदिवासी लड़की, A+ Grade से हुई पास

तमिलनाडु (Tamilnadu) की श्रीदेवी (Sridevi) ने दसवीं की परीक्षा में A+ ग्रेड हासिल किया है. Muthuvan Tribe से संबंध रखने वाली श्रीदेवी की यह सफलता कई मायनों में बेहद खास है. साथ ही श्रीदेवी की कहानी एक बार फिर से यह साबित करती है कि जज्बा हो तो कुछ भी नामुमकिन नहीं है.

श्रीदेवी केरल के चलाकुडी से लगभग 5 किलोमीटर दूर स्थित एक छोटे से गांव नयारंगडी में आदर्श आवासीय विद्यालय की स्टूडेंट थीं. हालांकि उसकी SSLC की परीक्षाएं 10 मार्च से शुरू हुई थीं, लेकिन महामारी के कारण उन्हें सातवें पेपर के बाद अचानक रोक दिया गया था.

इस बीच लॉकडाउन लगाया गया, तो 16 वर्षीय श्रीदेवी ने अपना हॉस्टल खाली कर दिया और चालाकुडी के आदिचिलोट्टी आदिवासी कॉलोनी में अपने दादा-दादी के घर चली गई. बाद में उसके पिता चेल्लमुथु उसे तमिलनाडु के तिरुप्पुर जिले में अपने घर ले आए.

एग्जाम सेंटर तक पहुंचने का मुश्किल रास्ता

श्रीदेवी को यहां पर उन्हें अपने बाकि एग्जाम्स के बारे में पता चला और इसके लिए उन्हें काफी लंबा मुश्किल रास्ता तय करना पड़ा.

श्रीदेवी को दसवीं की बाकी परीक्षाएं देने के लिए 150 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ी थी. इस दौरान वह सात किलोमीटर पैदल चलीं. इसके बाद उन्हें कुछ दूर के लिए मोटरसाइकिल का सहारा मिला, और फिर वो एक एंबुलेंस से यात्रा करके एग्जाम सेंटर तक पहुंचीं.

श्रीदेवी ने अपनी सफलता पर कहा, “मेरी कम्युनिटी के लोगों को यह नहीं पता है कि मैंने कितनी नंबर्स हासिल किए हैं, क्योंकि ये लोग शिक्षित नहीं हैं. इन्हें मेरी पढ़ाई-लिखाई से कोई लेना-देना नहीं होता.”

‘यहां तो किताबें और बिजली भी नहीं है’

उन्होंने कहा, “मैं खाली समय में पढ़ना पसंद करती हूं. लेकिन यहां पर तो किताबें भी नहीं हैं और बिजली भी नहीं है. महामारी के दौरान मैंने मूंगफली की खेती में अपने पिता की काफी मदद की.”

श्रीदेवी कहती हैं कि वो फेमस नहीं होना चाहती हैं. मैं अपने स्पोर्ट टीचर को धन्यवाद देना चाहती हूं. उन्होंने मेरी काफी मदद की है. मैं हमेशा से ही उनकी तरह स्पोर्ट्स पर्सन बनना चाहती हूं.

श्रीदेवी ने कहा, “मेरे पास कुछ और भी सपने हैं. मैं NEET और MBBS की तैयारी करना चाहती हूं. मैं चाहती हूं कि कोरोनावायरस महामारी जल्दी खत्म हो जाए और स्कूल दोबारा खुल जाए.”

Related Posts