Corona से डरा नहीं बल्कि लड़ा भीलवाड़ा, अब देशभर के कई शहरों में लागू होगा ये मॉडल

राजस्थान सरकार के मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने रविवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निवास पर हुई समीक्षा बैठक में जानकारी दी कि केंद्रीय कैबिनेट सचिव गौबा ने कोरोना से बचाव के लिए भीलवाड़ा में किए गए उपायों की तारीफ करते हुए इस मॉडल को देशभर में लागू करने के संकते दिए.
Bhilwara model, Corona से डरा नहीं बल्कि लड़ा भीलवाड़ा, अब देशभर के कई शहरों में लागू होगा ये मॉडल

कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों को चलते भारत के जिस शहर को इटली की तरह कहा जाने लगा था. वही शहर अब देशभर के लिए नजीर साबित हो सकता है. दरअसल राजस्थान के भीलवाड़ा के अंदर कोराना पॉजिटिव मरीजों की एक चेन बन गई थी, लेकिन सूबे की अशोक गहलोत सरकार ने तुंरत सख्त कदम उठाते हुए पूरे भीलवाड़ा को सील कर पूरे शहर में कर्फ्यू लगा दिया और प्रशासन ने युद्ध स्तर पर कोरोना से लड़ने का एक्शन प्लान बनाया.

संकट के समय में प्रशासन कोराना से लड़ा, डरा नहीं

दरअसल राजस्थान के भीलवाड़ा के निजी अस्पताल में डॉक्टर के कोरोनावायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद उस अस्पताल के नर्सिग स्टॉफ और अन्य डॉक्टर्स भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए. इसके बाद प्रशासन के साथ-साथ आम जनता में हड़कप मच गया था कि न जाने भीलवाड़ा के बांगड अस्पताल में कितने लोग उन डाक्टर्स के संपर्क में आए होंगे,​ न जाने कितने लोग कोरोना से संक्रमित हुए होंगे. लेकिन प्रशासन उस समय डरा नहीं, बल्कि कोरोना से लड़ा. प्रशासन ने सख्ती से कर्फ्यू लागू किया. इसी के साथ चिकित्सा विभाग की टीम ने 24 घंटों मुस्तैद रहकर कोरोना पॉजिटिव मरीज को सही भी किया.

भीलवाड़ा मॉडल में क्या-क्या हुआ

  • भीलवाड़ा में पुलिस ने 20 मार्च को ही पूरे शहर में कर्फ्यू लगाकार सारे रास्ते सील कर दिए, शहर के सभी कारखानों को बंद करवा दिया और किसी भी फैक्ट्री के मजदूर को शहर से बाहर नहीं निकलने दिया.
  • 21 तारीख को चिकित्सा विभाग ने फैसला लिया और 16 ​हजार स्वास्थ्य ​कर्मियों की 1948 टीमों ने करीब 18 लाख लोगों की स्क्रीनिंग का काम 10 दिन में कर लिया. वहीं अभी वहां दूसरे और तीसरे चरण के सर्वे का काम जारी है. अब तक 25 लाख लोगों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है. अभी 13 अप्रैल तक स्क्रीनिंग का काम जारी है.
  • जिला प्रशासन की ओर से कोरोना से निपटने के लिए तैयारियां शुरू की गई और 21 मार्च के बाद ही प्रशासन ने निजी अस्पातलों, होटल, धर्मशाला, सामुदायिक भवनों का अधिग्रहण करके क्वारंटीन के लिए सुरक्षित कर लिया.
  • जिन भी लोगों में थोड़े भी सर्दी जुकाम के लक्षण नजर आए, उनको घरों से निकालकर क्वारंटीन किया गया.
  • 3 अप्रैल से 13 अप्रैल तक प्रशासन ने एहतियातन वहां कर्फ्यू का सख्ती से पालन करते हुए पुलिस, चिकित्सा विभाग, सफाई कर्मचारी को छोड़कर सभी के पास निरस्त कर दिए.
  • जिला कलेक्टर राजेंद्र भट्ट और एसपी हरेंद्र महावर ने सोशल मीडिया और मीडिया के माध्यम से आम जनता को घर में रहने और साफ सफाई रखने, सोशल डिस्टेन्स बनाए रखने की अपील करते रहे.

भीलवाड़ा में 27 लोग कोरोना पॉजिटिव थे, लेकिन चिकित्सा विभाग की टीम के प्रयास से अब वहां सिर्फ 7 लोग ही कोरोना पॉजिटिव बचे हैं. बाकी 20 लोग ठीक होकर घर जा चुके हैं. डॉक्टर की माने तो बाकि बचे हुए 7 लोग भी जल्द स्वस्थ्य हो जाएंगे.

राजस्थान सरकार के मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने रविवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निवास पर हुई समीक्षा बैठक में जानकारी दी कि केंद्रीय कैबिनेट सचिव गौबा ने कोरोना से बचाव के लिए भीलवाड़ा में किए गए उपायों की तारीफ करते हुए इस मॉडल को देशभर में लागू करने के संकते दिए.

गहलोत ने कहा हर जगह लागू होगा भीलवाड़ा मॉडल

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि चिकित्सकों, प्रशासन और समाज की सहायता से ये संभव हो पाया है. यह पूरी तरह से एक टीम वर्क है. हम हर जगह भीलवाड़ा वाला मॉडल लागू कर रहे हैं.

Related Posts