56 मंत्रालयों के प्रेजेंटेशन के बाद बोले मोदी- जनता ने दूसरी बार सिर आंखों पर बैठाया, काम की रफ्तार बढ़ाइए

इतनी लंबी बैठक चलने को लेकर एक वरिष्ठ अफसर ने कहा, "अगर 56 मंत्रालय हैं और एक मंत्रालय के प्रजेंटेशन के लिए दस मिनट जोड़ें तो कुल 560 मिनट यानी नौ घंटे चाहिए.