शहीद की पत्नी ने क्यों कहा?… नारेबाजी नहीं, खुद में बदलाव लाकर दीजिए श्रद्धांजलि!

 “सिर्फ जिंदाबाद और मुर्दाबाद के नारे लगाने से न तो शहीदों को श्रद्धांजलि मिलेगी और न ही देश का भला होगा, अगर आप सच में कुछ बदलना चाहते हैं तो आर्मी ज्वाइन कीजिए और अगर ये संभव नहीं है तो हर मामले में खुद को बेहतर बनाइए और बदलाव लाइए.” ये...