चैन की नींद सो रहा था आदमी, चारपाई के नीचे पड़ा था मगरमच्छ

लगभग 1 घंटे के इंतजार के बाद वन विभाग के अधिकारियो ने पिंजरा उपलब्ध कराया, जिसके बाद 15-20 मिनट के अंदर ही मगरमच्छ को रेस्क्यू के जरिए सेफ निकाला गया.