बीएचयू के प्रोफेसर फिरोज खान के समर्थन में आया आरएसएस

संघ का मानना है कि फिरोज खान का विरोध गलत है. संस्कृत भाषा का लाभ संपूर्ण विश्व के सभी लोगों को मिलना चाहिए.

फिरोज खान का संस्कृत पढ़ाना गलत तो रफी-नौशाद का भजन सही कैसे? BHU छात्रों के विरोध से हैरान परेश

बीएचयू के छात्र संस्कृत प्रोफेसर के तौर पर ‘गैर-हिंदू’ की नियुक्ति को रद्द करने की मांग कर रहे हैं. वहीं प्रोफेसर फिरोज खान का कहना है कि क्या मैं मुस्लिम होने की वजह से संस्कृत नहीं पढ़ा सकता?