बुरहान वानी की मौत के आज तीन साल पूरे, जानिए आतंक के पोस्टरब्वॉय की आखिरी शाम की कहानी

बुरहान वानी जितना बड़ा आतंकी नहीं था, उससे ज़्यादा बड़ी छवि उसने सोशल मीडिया के ज़रिए बना ली थी. यही उसकी ताकत थी मगर यही उसके अंत का कारण बना. सुरक्षाबलों ने उसके प्रति बढ़ते खतरनाक आकर्षण को खत्म करने की ठानी थी.

कश्मीर में पाक ही फैलाता है आतंक, यकीन नहीं है तो देखिये लीजिये आसिफ गफूर का ये ट्वीट

पाक सेना के इस अधिकारी ने हिजबुल कमांडर बुरहान वानी की बरसी पर किया उसे सलाम. 8 जुलाई 2016 को सुरक्षा बलों के साथ हुई गोलीबारी में ढेर हो गया था पोस्टर ब्वॉय वानी.

बुरहान वानी के गांव में नहीं पड़ा एक भी वोट, पुलवामा हमलावर के गांव में सिर्फ 15

साल 2016 में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में वानी के मारे जाने के बाद घाटी में लंबे समय तक अशांति रही थी जिसमें 100 लोगों की जान गई थी.

सुन लो पाकिस्तान, भारत भी अब 1971 वाला नहीं, अगर उलझे तो फिर होंगे दोफाड़ !

पाकिस्तानी सेना अक्सर भारत को गीदड़भभकी देकर अपने लोगों को खुश करती है. वो भारत को याद दिलाते हैं कि अब हम 1971 जितने कमज़ोर नहीं, लेकिन इन बयानबाज़ियों के बीच वो जो कुछ भूलता है उसे ज़रूर पढ़िए.