जब पंडित जसराज ने कर्नाटक के CM को फोन कर कहा- आप राहुल द्रविड़ के समर्थन में क्यों खड़े नहीं होते

खेलों की दुनिया जसराज जी को हमेशा से अच्छी लगती थी. क्रिकेट के अलावा चेस, टेनिस बैडमिंटन सभी में उनकी रुचि थी. वे कहते थे- “खेल में मन को तकलीफ नहीं होती, अपना कोई खिलाड़ी आउट हो जाए तो बुरा जरूर लगता है लेकिन खेल खुशियां देता है.”