आजाद भारत में नाथूराम गोडसे को पहली और याकूब मेमन को हुई आखिरी फांसी

भारत (India) की विभिन्न अदालतों में हर साल लगभग 130 लोगों को मौत की सजा सुनाई जाती है. हालांकि मृत्युदंड पाए कुछ लोग ही होते हैं, जो आखिर में मौत के तख्ते तक पहुंचते हैं.