व्यंग्य: ‘राजनीतिक व्यवसाय’ के देसी घराने…लाभ-हानि के अपने-अपने पैमाने !

भारतीय राजनीति के व्यवसाय में निवेश करते हुए (वोट डालते हुए) इससे जुड़े जोखिमों को ध्यानपूर्वक समझ लें. निवेश का लॉक-इन पीरियड 5 साल का है. कोई जरूरी नहीं है कि राजनीतिक कंपनियां ‘रिटर्न’ के जो वादे कर रही हैं, वो सही हो.

व्यंग्य: कितनी खूबसूरत ये तस्वीर है…भारतीय राजनीति की यही तकदीर है!

कितनी असीम संभावनाएं हैं इस तस्वीर में! अच्छी और स्वस्थ राजनीति की संभावनाएं. मतभेदों को भुलाने की संभावनाएं. आइंदा एक-दूसरे को गालियां न बकने की संभावनाएं. कुल मिलाकर बोलें तो राजनीति के कायाकल्प की संभानाएं इस तस्वीर में कूट-कूटकर भरी हैं, लेकिन जो दिखता है वो होता कहां है?

भारतीय राजनीति के ये 7 मैदान हैं गेम चेंजर

नयी दिल्ली भारतीय लोकतंत्र की अब तक की चुनावी यात्रा बड़ी दिलचस्प रही है. भारत के लोकतंत्र को अपनी इस यात्रा में कई पड़ावों से होकर गुजरना पड़ा है. इन विभिन्न पड़ावों के अनुभव लोकतंत्र को मजबूत करने में काम आए हैं. लोकतंत्र का सबसे अहम पहलू है चुनाव, जो...

12 प्वाइंट्स में बाहुबली मोहम्मद शहाबुद्दीन की कहानी

भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में अब तक कई बाहुबली नेता हुए हैं. इन बाहुबलियों में मोहम्मद शहाबुद्दीन एक ऐसा ही नाम है जो बिहार की राजनीति को काफी हद तक प्रभावित करता रहा है. आइये आपको सुनाते हैं पॉलिटिकल साइंस से MA और PHD करने वाले डॉन शहाबुद्दीन की कहानी....

दादा- कांग्रेस अध्यक्ष, चाचा- उपराष्ट्रपति और मुख्तार ‘बाहुबली’

लखनऊ उत्तर प्रदेश की राजनीति में जब भी बाहुबली नेताओं की गिनती की जाती है उसमें मुख्तार अंसारी का नाम जरूर आता है. मुख्तार अंसारी पर 40 से ज्यादा मुकदमें दर्ज हैं और वह पिछले 14 सालों से जेल में बंद है. साथ ही मुख्तार यूपी की मऊ विधानसभा सीट...