रक्षाबंधन पर 19 साल बाद बन रहा महासंयोग, जानिए कैसे उठाएं इसका पूरा लाभ

अगर सावन महीने का आरंभ और अंत श्रवण नक्षत्र में हो तो इसे बहुत ही दुर्लभ योग माना जाता है. ये शुभ योग है.