‘सेक्युलर’ पर जोर देने वाले उद्धव की पार्टी ने जब की थी संविधान से ये शब्द हटाने की मांग

धर्मनिरपेक्षता की बात करने वाली शिवसेना ने 2015 में मांग उठाई की थी कि संविधान की प्रस्तावना से धर्मनिरपेक्ष और समाजवाद शब्द को स्थायी रूप से हटा देना चाहिए.