अब नए कोरोनावायरस की तस्वीरें आईं सामने, संक्रमण के प्रभाव में मिलेगी मदद

द न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन (The New England Journal of Medicine) ने अपने इस काम को 'इमेज इन मेडिसिन' (Image in medicine)में प्रकाशित किया है.

सरकार को बनानी होगी कोरोना से जंग की नई रणनीति, सीरो सर्वे रिपोर्ट के आंकड़े चौंकाने वाले

सीरो सर्वे के नतीजे (Sero survey results) बताते हैं कि मई के महीने में देश में लगभग 64 लाख लोग कोरोना संक्रमित (coronavirus) हो चुके हैं.

कैंब्रिज यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट, मरीजों के फेफड़ों को बिल्कुल खराब कर रहा कोरोनावायरस

कोरोनावायरस संक्रमण (Coronavirus) के इलाज का प्रबंधन कई देशों के लिए बहुत महंगा साबित हो सकता है. यह कम और मध्यम आय वाले देशों के लिए 52 बिलियन डॉलर के आसपास या 8.60 डॉलर (लगभग 632 रुपये) प्रति व्यक्ति हो सकता है.

वैज्ञानिकों ने सुलझाई एक बड़ी पहेली, Coronavirus की वैक्सीन बनाने में मिलेगी मदद

रिसर्चर्स के मुताबिक nsp16 की 3D संरचना को समझने से SARS-CoV-2 और कई अन्य तरह के वायरस के खिलाफ वैक्सीन (Vaccine) तैयार करने का रास्ता खुल सकता है. दवाओं को इस तरह तैयार किया जा सकता है, जो वायरस को nsp16 में बदलाव करने से रोकें.

दुनिया में कैसे फैला कोरोना वायरस? ये पता लगाने अगले हफ्ते चीन जाएगी WHO की टीम

WHO के मुताबिक अगर कोरोना वायरस के बारे में पूरी जानकारी मिल जाए तो दुनिया इस खतरनाक वायरस (SARS-CoV-2) का सामना बेहतर तरीके से कर सकती है.

आनंद विहार स्टेशन मेकशिफ्ट अस्पताल में तब्दील, रेलवे की ओर से 8000 आइसोलेशन बेड की तैयारी

दिल्ली में COVID-19 के बढ़ते संक्रमण के बीच फिलहाल स्टेशन चिन्हित किए जा रहे हैं. अभी दिल्ली में शकूरबस्ती रेलवे स्टेशन के वाशिंग यार्ड और आनंद विहार रेलवे स्टेरशन पर आइसोलेशन कोच लगाए जा रहे हैं.

Nizamuddin Markaz मामले में Supreme Court ने केंद्र सरकार से मांगा 2 हफ्ते में जवाब

याचिका में तबलीगी जमात (Tablighi Jamat) सम्मेलन के पहलुओं पर सीबीआई (CBI) जांच की मांग की गई है. साथ ही दिल्ली और देश के लाखों नागरिकों के स्वास्थ्य को खतरे में डालने के लिए केंद्र, दिल्ली सरकार और दिल्ली पुलिस की भूमिका पर सवाल उठाया है गया है.

चीन ने बना ली Coronavirus की वैक्सीन? इंसानों पर टेस्ट हुआ पूरा, दुनियाभर में जगी उम्मीद

शुरुआती चरण के ट्रायल में जिन लोगों को वैक्सीन (Vaccine) की खुराक दी गई, उनमें कुछ रोगप्रतिरोधी कोशिकाओं (Cell) का निर्माण हुआ. वैज्ञानिकों ने पाया कि वैक्‍सीन की वजह से टी-सेल (T-Cells) मजबूत हुए जो वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से बचा सकते हैं.

क्या है Coronavirus से मौत का सही कारण, रिसर्च में आ रहीं ये कठिनाइयां

एक रिसर्च में सामने आया है कि खून (Blood) का थक्का जमना कोरोना (Coronavirus) से होने वाली मौत का सबसे पहला कारण है, जबकि दूसरी रिसर्च में निमोनिया (Pneumonia) को मौत का सबसे पहला कारण बताया गया है.

अमेरिकी रिसर्चर्स का दावा- अगले दो सालों तक चल सकती है Corona महामारी

शोधकर्ताओं (Researchers) का कहना है कि कोरोनावायरस (Coronavirus) के बारे में कोई भी अंदाजा लगाना मुश्किल है. ये बिल्कुल नया वायरस है. SARS जैसी बीमारियों से SARS-CoV-2 (नया कोरोनावायरस) के लक्षण काफी अलग हैं.

Coronavirus: रिसर्च में अनुमान, सालों पहले फैल चुका था वायरस अब बना महामारी

नेचर मेडिसिन (Nature Medicine) के जर्नल (Journal) में छपी रिपोर्ट में कहा गया है कि ऐसी आशंका है कि चीन (China) के वुहान (Wuhan) प्रांत में पाए गए पहले केस से बहुत पहले भी यह वायरस जानवरों से मनुष्यों में फैल सकता है.

हवा, जमीन, कार्डबोर्ड, तांबे पर कितनी देर सक्रिय रहता है Corona का Virus? पढ़ें बड़ा खुलासा

न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित निष्कर्ष में SARS COV 2 की स्थिरता के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी गई है, जिससे COVID 19 बीमारी पैदा होती है.