चंद्रयान-2: 12 घंटे के अंदर भारत बनेगा अंतरिक्ष का ‘बादशाह’, जानिए मिशन ‘बाहुबली’ की A to Z जानकारी

भारत का चंद्रयान-2 सीधे चंद्रमा के साउथ पोल पर उतरेगा. इतिहास में आज से पहले किसी भी देश ने चंद्रमा के साउथ पोल पर लैंडर नहीं उतरा है. हमेशा अंधेरे में रहने वाले दक्षिणी ध्रुव पर पानी होने की संभावना सबसे ज्यादा है.

24 घंटे के अंदर भारत बनेगा अंतरिक्ष का ‘बादशाह’, जानिए मिशन ‘बाहुबली’ की A to Z जानकारी

10 साल में दूसरी बार चांद पर मिशन भेजने वाला इसरो चंद्रयान-2 की सफलता के बाद 2020 के अंत तक मिशन चंद्रयान-3 की तरफ कदम बढ़ाएगा.

लाइव देखी जा सकेगी ‘बाहुबली’ रॉकेट की लॉन्चिंग, 7 हजार से ज्यादा लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन

इसरो ने हाल ही में आम लोगों के लिए रॉकेट लॉचिंग प्रक्रिया को लाइव देखने की शुरुआत की है.

चंद्रयान-2 के बारे में वो सबकुछ जो आपको जानना बेहद जरुरी है

पहले चंद्रमा मिशन, 'चंद्रयान-1' के दौरान भी जब रॉकेट को ईंधन देते समय रिसाव हुआ था, यह सिवन ही थे, जिन्होंने गणना की, संभावित गिरावट की भविष्यवाणी की और गारंटी दी कि एक सफल मिशन के लिए पर्याप्त मार्जिन मौजूद है.