Corona: बीटेक स्टूडेंट ने एसी के लिए बनाई यूवी-लाइट यूनिट, हवा को डिसइंफेक्ट करेगी ये डिवाइस

ये डिवाइस हवा में मौजूद वायरस को खत्म करने के लिए अल्ट्रा-वायलेट ट्यूब्स का इस्तेमाल करता है. इसे रेस्तरां, जिम या मूवी थिएटर जैसे बंद स्थानों में यूज किया जा सकता है.
btech Student Mahesh Kotni, Corona: बीटेक स्टूडेंट ने एसी के लिए बनाई यूवी-लाइट यूनिट, हवा को डिसइंफेक्ट करेगी ये डिवाइस

दुनिया भर में कोरोना वायरस (coronavirus) जंगल की आग की तरह फैल रहा है. सभी लोग इस संक्रमण के चलते उन चीजों को लेकर बेहद सतर्क हो गए हैं जिन्हें हम छूते हैं या खाते हैं. यहां तक ​​कि जिस हवा में हम सांस लेते हैं उसके एहतियातन हम मास्क पहन रहे हैं. रिसर्चर्स का दावा है कि COVID-19 एयरबोन है. ऐसे में वायरस को लेकर हमारा डर और भी बढ़ जाता है.

इसी बीच भारत में लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने एयर कंडीशनर की मदद से हवा को कीटाणुरहित करने में मदद करने के लिए एक नोवल डिवाइस डेवलप की है. ये डिवाइस हवा में मौजूद वायरस को खत्म करने के लिए अल्ट्रा-वायलेट ट्यूबों के एसेट का उपयोग करता है जो एक स्पेशल वेबलेंथ में किरणों का उत्सर्जन करता है.

नोकिया के ये तीन मिड रेंज स्मार्टफोन जल्द किए जा सकते हैं लॉन्च

खास बात ये कि इस डिवाइस को बूट होने में समय नहीं लगता है और एसी चालू होने के साथ ही ये एक्टिवेट हो जाता है. सेंसिंग यूनिट डिवाइस की ट्यूब को एक्टिवेट करती है. यूनिट के अंदर एक इंडिकेटर लगाया गया है जो दिखाता है कि ट्यूब्स को कब बदलने की जरूरत है.

इस डिवाइस को बीटेक (इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक इंजीनिरिंग) के छात्र महेश कोटनी ने बनाया है. इसके लिए महेश ने यूनिवर्सिटी के डॉ. सौरभ लखनपाल, एसोसिएट प्रोफेसर और एडिशनल डीन स्टूडेंट वेलफेयर हेड मनदीप सिंह, असिस्टेंट प्रोफेसर रुहुल अमीन चौधरी के मार्गदर्शन में काम किया है.

btech Student Mahesh Kotni, Corona: बीटेक स्टूडेंट ने एसी के लिए बनाई यूवी-लाइट यूनिट, हवा को डिसइंफेक्ट करेगी ये डिवाइस

डिवाइस का वर्किंग प्रोटोटाइप डेवलप करने में महेश को एक महीने का समय लगा. डिवाइस के हर मॉडल की लागत 1500 से 2000 रुपये के बीच है. महेश ने कहा कि वो उम्मीद करते हैं कि बड़े पैमाने पर उत्पादन होने के बाद कीमतों में और कमी आएगी. इस तरह का डिवाइस रेस्तरां, जिम या मूवी थिएटर जैसे बंद स्थानों में मददगार हो सकता है, जहां अक्सर बड़ी संख्या में लोग इकट्ठा होते हैं.

इस गेमिंग कंपनी से लीक हुई एक लाख से अधिक गेमर्स की निजी जानकारी

Related Posts