चीन की कंपनी Xiao-i ने Apple पर दर्ज कराया पेटेंट चोरी का केस, मांगा 1.43 अरब डॉलर का हर्जाना

शिओ-आई (Xiao-i) का आरोप है कि एप्पल (Apple) ने अपने वॉयस रिकग्नीशन टेक्नोलॉजी सिरि (Voice Recognition Technology Siri) में उसके पेटेंट को चोरी किया है.

Xiao-i filed patent theft case on Apple, चीन की कंपनी Xiao-i ने Apple पर दर्ज कराया पेटेंट चोरी का केस, मांगा 1.43 अरब डॉलर का हर्जाना

चीन की आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कंपनी शंघाई झिंझेन इंटेलिजेंट नेटवर्क टेक्नोलॉजी (Shanghai Zhizhen Intelligent Network Technology Co. Ltd), जिसे शिओ-आई (Xiao-i) के नाम से भी जाना जाता है, ने दिग्गज टेक कंपनी एप्पल (Apple) के खिलाफ पेटेंट चोरी का एक मुकदमा दर्ज कराया है.

एप्पल से 1.43 अरब डॉलर की मांग

शिओ-आई ने आरोप लगाया है कि एप्पल ने पेटेंट कानून का उल्लंघन किया है. चीन की इस कंपनी ने एप्पल पर पेटेंट चुराने का केस करते हुए हर्जाने की मांग की है. शिओ-आई ने हर्जाने के तौर पर एप्पल से 1.43 अरब डॉलर की मांग की है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

शिओ-आई ने अपने एक सोशल मीडिया पोस्ट में कहा कि उसने एप्पल से पेटेंट चोरी वाले उत्पादों को बनाने, उपयोग करने, बेचने का वादा करने, और आयात करना बंद करने की भी मांग की है. ऑनलाइन मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, शिओ-आई का आरोप है कि एप्पल ने अपने वॉयस रिकग्नीशन टेक्नोलॉजी सिरि में उसके पेटेंट को चोरी किया है.

8 साल पुराना है मामला

चीनी कंपनी के अनुसार, वॉयस रिकग्नीशन टेक्नोलॉजी के पेटेंट के लिए कंपनी ने 2004 में अप्लाई किया था. यह पेटेंट उसे 2009 में मिल गया था. फिलहाल एप्पल ने अभी तक इस मामलों को लेकर अपनी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

बताते चलें की चीनी कंपनी और एप्पल की यह 8 साल पुरानी है. शिओ-आई ने पहली बार 2012 में एप्पल पर उसकी वॉयस रिकग्नीशन टेक्नोलॉजी चुराने का केस दर्ज कराया था. चीन के सुप्रीम पीपुल्स कोर्ट में इस केस की सुनवाई हुई थी, जिसमें कोर्ट ने शिओ-आई के पेटेंट को अपना बताने वाले दावे को सही बताया था.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts