Corona के नाम पर हो रही ऑनलाइन ठगी, गृह मंत्रालय ने जारी किए निर्देश

कोरोना वायरस (Coronavirus) से संबंधित लगभग 35 Fake एप्स का पता चल चुका है. इन एप्स को ई-मेल या मैसेज से लिंक भेज कर यूजर्स तक पहुंचाया जा रहा है.
Corona virus fraud, Corona के नाम पर हो रही ऑनलाइन ठगी, गृह मंत्रालय ने जारी किए निर्देश

कोरोना वायरस (Coronavirus) के नाम पर ऑनलाइन धोखाधड़ी (Online Fraud) के मामले सामने आने पर गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) ने सावधानी के निर्देश जारी किए हैं. गृह मंत्रालय के मुताबिक कोरोना (COVID-19) के नाम पर कुछ ऐसे लिंक शेयर किए जा रहे हैं जो आपके सिस्टम (लैपटॉप/ कम्प्यूटर/मोबाइल फोन) में मालवेयर पहुंचा सकते हैं. गृह मंत्रालय ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है.

बता दें इंटरनेट पर कोरोना वायरस को लेकर कई लिंक्स और एप्लीकेशन प्रोग्राम शेयर किए जा रहे हैं जो COVID-19 लाइव, इससे जुड़ी दूसरी जानकारियां देने के नाम पर ठगी कर रही हैं. आप जैसे इस तरह के लिंक पर क्लिक करते हैं या प्रोग्राम इंस्टाल करते हैं, इनके साथ मुफ्त में अटैच मालवेयर प्रोग्राम (Malware Program) भी आपके सिस्टम में जगह बना लेता है और आपका कॉन्फिडेंशियल डाटा चुराता है.

इतना ही कोरोना वायरस चैरिटी (Corona Virus Charity) के नाम पर भी हैकर्स पैसों की धोखाधड़ी कर रहे हैं. ये भी हो सकता है कि चैरिटी के नाम पर हैकर आपका पूरा अकाउंट खाली कर दें.

बचने के लिए क्या करें

  • कोरोना वायरस को लेकर इनबॉक्स या सोशल मीडिया (Social Media) पर आए किसी भी लिंक पर क्लिक करने से बचें. जिन लिंक्स में https की बजाय सिर्फ http लिखा हो उन पर क्लिक न करें.
  • इंटरनेट पर आज कल voice फिशिंग का चलन है, जिसे विशिंग भी कहते हैं. ये एक सोशल इंजीनिरिंग स्कैम (Social engineering scam) है. हैकर विशिंग के जरिए आपसे COVID के बहाने पैसे ऐंठ सकते हैं. ऐसे में कोई भी पर्सनल जानकारी फोन पर किसी से भी शेयर न करें.
  • कोरोना चैरिटी देने से पहले सामने वाले की अकाउंट डिटेल्स को खोज खबर करें, उसके बाद ही पैसे ट्रांसफर करें.

अभी तक कोरोना वायरस (Coronavirus) से संबंधित लगभग 35 Fake एप्स का पता चल चुका है. इन एप्स को ऑफिशियल गूगल प्ले स्टोर (google play store) के जरिए वायरल नहीं किया गया है, बल्कि ई-मेल या मैसेज से लिंक भेज कर यूजर्स तक पहुंचाया जा रहा है.

Related Posts