Deep Nude App: महिलाओं की फोटो को न्यूड बनाता था ये एप, न करें सर्च

इस तरह के एप में तस्वीर में से कपड़ों को हटाने के लिए आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है.

नई दिल्ली: कुछ दिनों पहले डीप न्यूड एप चर्चा में बना हुआ था. ये एप महिलाओं की नॉर्मल फोटो को न्यूड फोटो में बदल देता था. अब इस एप को बनाने वाले ने होस्टिंग प्लेटफॉर्म से डिलीट कर दिया है.

दरअसल इस तरह के एप में आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है. तस्वीर में से कपड़ों को हटाने के लिए एप में एडवांस मशीन लर्निंग अल्गोरिदम यूज की जाती है.

एप डेवलपर के मुताबिक इस एप के फ्री वर्जन में बनाई गई न्यूड तस्वीरों में ‘फेक’ वाटरमार्क लगाया जाता था, जबकि एप के पेड वर्जन पर न्यूड फोटो के नीचे छोटा सा वाटरमार्क लगाया जाता था. यूजर के लिए इस वाटरमार्क को हटाना काफी आसान था. इस हिसाब से एप से बनाई गई फोटो का गलत तरीके से इस्तेमाल किया सा सकता था, इसलिए एप को डिलीट कर दिया गया.

जब से इस एप को होस्टिंग प्लेटफॉर्म से डिलीट किया गया है, कुछ यूजर इसे गूगल या दूसरे सर्च इंजन पर ढूंढ रहे हैं और इसे डाउनलोड करने की कोशिश कर रहे हैं.

बता दें कि ऐसा करना यूजर के लिए खतरनाक साबित हो सकता है. जब कोई यूजर एप को अलग-अलग कीवर्ड लिखकर सर्च करता है तो इंटरनेट पर उसे कई लिंक के विकल्प दिखाए जाते हैं, जो दावा करते हैं कि पर्टिकुलर प्लेटफॉर्म पर ऑरिजनल एप मौजूद है.

इन लिंक्स पर क्लिक करते ही या तो आप किसी फेक लिंक पर रिडायरेक्ट कर दिए जाते हैं या फिर सर्वे फॉर्म ओपेन हो जाता है, जिसे भरने के बाद भी आप किसी रिजल्ट तक नहीं पहुंच पाते हैं.

इतना ही नहीं किसी भी लिंक पर क्लिक करना कतई सुरक्षित नहीं है. हो सकता है आप डीप न्यूड एप समझकर कोई APK फाइल डाउनलोड करें और बदले में आपका सारा डाटा किसी अननोन सोर्स तक पहुंच जाए. इस लीक हुआ डाटा में आपकी निजी जानकारियां भी छिपी हो सकती हैं.

नतीजे पर आएं तो ऑरिजनल डीप न्यूड एप को इंटरनेट से डिलीट कर दिया गया है, इसकी कोई भी कॉपी अब इंटरनेट पर मौजूद नहीं है. इसलिए एप को सर्च और डाउनलोड करने की कोशिश में अपना वक्त और मेहनत बर्बाद न करें. ये काफी रिस्की हो सकता है.