मार्क जुकरबर्ग @36 : Facebook के CEO का भारत से है ये रिश्ता, जन्मदिन पर जानें खास बातें

दुनिया की सबसे बड़ी कही जाने वाली सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक (Facebook Inc) के फाउंडर और CEO मार्क जुकरबर्ग (Mark Zuckerberg) गुरुवार को 36 साल के हो गए. आइए, जन्मदिन के खास मौके पर उनके बारे में दिलचस्प और कम सुनी बातों को जानते हैं.
Mark Zuckerberg turned 36, मार्क जुकरबर्ग @36 : Facebook के CEO का भारत से है ये रिश्ता, जन्मदिन पर जानें खास बातें

दुनिया की सबसे बड़ी कही जाने वाली सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक (Facebook Inc) के फाउंडर मार्क जुकरबर्ग गुरुवार को 36 साल के हो गए. जुकरबर्ग का जन्म 14 मई 1984 को अमेरिका के न्यूयॉर्क स्थित डाब्स फेरी में हुआ था. 23 साल की उम्र में दुनिया के सबसे नौजवान अरबपति और सबसे कामयाब सीईओ बन गए.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

आइए, जुकरबर्ग के जन्मदिन के खास मौके पर उनके बारे में दिलचस्प और कम सुनी बातों को जानते हैं.

परिवार

मार्क जुकरबर्ग का पूरा नाम मार्क इलिएट जुकरबर्ग है. लोग उन्हें प्यार से मार्क बुलाते हैं.
मार्क के पिता का नाम एडवर्ड जुकरबर्ग और माता का नाम करेन केंपर है. मार्क के पिता डेंटिस्ट और माता साइकेट्रिस्ट हैं.
एक रिपोर्ट के मुताबिक मार्क जुकरबर्ग को उनके माता-पिता बचपन में प्रिंसली (Princely) निक नेम से बुलाते थे.
मार्क अपने परिवार में अकेले लड़के हैं.उनकी तीन बड़ी बहने हैं, जिनका नाम रेंडी, डोना और अरील्ले हैं.
मार्क जुकरबर्ग की पत्नी प्रिसिला चान एक चीनी-अमेरिकी महिला हैं, जिनका उनके जीवन में काफी महत्व है.
अपनी पत्नी के लिए मार्क ने मैड्रिन भाषा भी सीखी थी. इसमें वे पूरी तरह से पारंगत नहीं हैं.
इस भाषा को अच्छी तरह से समझ और बोल सकते हैं, लिखने में दिक्कत होती है.
मार्क जुकरबर्ग और चान के दो बच्चे मैक्सिमा और अगस्त हैं.

Mark Zuckerberg turned 36, मार्क जुकरबर्ग @36 : Facebook के CEO का भारत से है ये रिश्ता, जन्मदिन पर जानें खास बातें

बचपन

मार्क जुकरबर्ग को बचपन से ही कंप्यूटर का बहुत शौक था.
मार्क को उनके पिता ने C++ की किताब तोहफे के रूप में दी थी. C++ कंप्यूटर प्रोग्रामिंग भाषा है.
बचपन में मार्क ने एक मैसेजिंग प्रोग्राम बनाया था. उसका इस्तेमाल उनके पिता अपने डेंटल ऑफिस में करते थे.
हाईस्कूल में पढ़ते हुए मार्क जुकरबर्ग को माइक्रोसॉफ्ट और एओएल जैसी दिग्गज टेक कंपनियों की तरफ जॉब का ऑफर आया था.
मार्क जुकरबर्ग ने 17 साल की उम्र में एक सिनेप्स मीडिया प्लेयर तैयार किया था. इसमें यूजर्स अपनी पसंद के गाने स्टोर कर सकते थे.
मार्क जुकरबर्ग ने यूनिवर्सिटी में पढ़ने के दौरान फेसमैश नाम की साइट को लॉन्च किया था. यह साइट कोई खास कमाल नहीं दिखा पाई थी.
Howard University में पढ़ाई को दौरान मार्क के दोस्त उन्हें Slayer निक नेम से पुकारते थे.

कारोबार – फेसबुक

23 वर्ष की उम्र में ही मार्क जुकरबर्ग अरबपति बन गए थे.
कंपनी के साथी मार्क जुकरबर्ग के लिए Zuck निक नेम का इस्तेमाल करते हैं.
साल 2004 में मार्क जुकरबर्ग ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर द फेसबुक नाम की साइट बनाई थी.
तब इसमें यूजर्स अकाउंट बनाकर अपनी फोटो अपलोड कर सकते थे.
मार्क 2004 में ही कॉलेज छोड़कर अपना पूरा समय फेसबुक को देने लगे थे.
मार्क की मेहनत और लगन से ही साल 2004 के खत्म होने तक फेसबुक ने एक मिलियन यूजर्स जोड़ लिए थे.
साल 2005 में वेंचर कैपिटल एक्सेल ने फेसबुक में 12.7 मिलियन डॉलर का निवेश किया था.
साल 2010 में टाइम मैग्जीन ने मार्क जुकरबर्ग को पर्सन ऑफ द ईयर और फोर्ब्स ने दुनिया के शक्तिशाली लोगों की लिस्ट में शामिल किया था.
आज की तारीख में फेसबुक के साथ 2.6 बिलियन से भी ज्यादा यूजर्स जुड़े हुए हैं.

Mark Zuckerberg turned 36, मार्क जुकरबर्ग @36 : Facebook के CEO का भारत से है ये रिश्ता, जन्मदिन पर जानें खास बातें

भारत से रिश्ता

एक समय जब फेसबुक अपने कठिन दौर से गुजर रहा था, तब संघर्ष के दौर में मार्क जुकरबर्ग को को जीने की राह भारत से मिली. मार्क भारत के उत्तराखंड में नीम किरोली बाबा के आश्रम आए थे. करीब एक महीने का वक्त आश्रम में बिताने के बाद उन्हें एहसास हुआ कि लोगों को जोड़ना ही सबसे सुखद काम है.

मार्क जुकरबर्ग ने एक बार अपनी प्रोफाइल पिक को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया अभियान को समर्थन देने के लिए बदला था. अपनी नई पिक में उन्होंने केसरिया, सफेद और हरे रंग यानी भारत के राष्ट्रीय ध्वज की आभा का इस्तेमाल किया था.

मार्क जुकरबर्ग शाकाहारी हैं. उन्होंने एलान किया था कि वो किसी को मार नहीं सकते और बिना खुद कत्ल किए वो मांस नहीं खा सकते. इसलिए मांसाहारी नहीं हैं.

क्यों नीला है फेसबुक

The New Yorker की एक रिपोर्ट के मुताबिक मार्क जुकरबर्ग को रेट-ग्रीन कलर ब्लाइंडनेस नामक दिक्कत है. इसकी वजह से उन्हें ब्लू कलर सबसे अच्छी तरह से दिखता है. इसी वजह से फेसबुक की वेबसाइट और मोबाइल ऐप पर ब्लू कलर का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया गया है. एक मैगजीन को दिए इंटरव्यू में मार्क जुकरबर्ग ने खुद कहा था कि Blue is the richest color for me.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts