मिलिए देश की पहली फीमेल रोबोट पुलिस इंस्पेक्टर से

first-female-police-robot-in-india, मिलिए देश की पहली फीमेल रोबोट पुलिस इंस्पेक्टर से

नई दिल्ली: आपने सिंघम मूवी तो देखी होगी, अब सोचिए कि बाजीराव सिंघम की बजाय कोई रोबो हो, और अपना परिचय वो यूं दे कि – नाम केपी, माता-पिता एसीमोव रोबोटिक्स प्राइवेट लिमिटेड और साइबरडोम, पोस्ट सब-इंस्पेक्टर, रैम इतने जीबी, कन्फिगरेशन ये और वो. ये सुनने में बड़ा अटपटा है लगता है लेकिन सच यही है.

केरल पुलिस ने अपनी टीम में एक रोबो की एंट्री कराई है, पुलिस फोर्स में आने वाला ये भारत का पहला रोबोट होगा. चूंकि महिलाएं चीजों को हैंडल करने में अधिक सक्षम होती हैं, इसलिए इसे सुंदर नैन-नक्श के साथ फीमेल लुक दिया गया है. अनावरण के वक्त केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन को सैल्यूट कर इस रोबो ने अपनी ड्यूटी का हवाला दिया.

first-female-police-robot-in-india, मिलिए देश की पहली फीमेल रोबोट पुलिस इंस्पेक्टर से

कोच्चि स्थित स्टार्टअप वेंचर एसीमोव रोबोटिक्स प्राइवेट लिमिटेड और साइबरडोम ने इस महिला रोबो को डिजाइन किया है. साइबरडोम एक टेक्निकल रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेंटर है जिसे केरल पुलिस हैंडल कर रही है.

मुख्यालय में होगी ऑन ड्यूटी
बेसिकली इस रोबो को डॉक्यूमेंट मैनेज करने के तैयार किया गया है. केरल पुलिस के एडीजीपी मनोज अब्राहम ने बताया कि इस रोबोट को मुख्यालय में उपलब्ध सेवाओं की जानकारी देने में इस्तेमाल किया जाएगा. यहां आने वाले लोग रोबो से कहकर अपनी शिकायत दर्ज करवा सकेंगे, जिन्हें सॉफ्टकॉपी फॉर्मेट में सेव रखा जाएगा. इसके अलावा केपी-बोट मुख्यालय में आने वाले लोगों को रिसीव करेगी. उन्हें आईडी कार्ड देगी, और संबंधित जगह जाने के लिए रास्ता भी बताएगी.

बढ़ते आतंकी हमलों से सबक लेते हुए आगे जाकर इस तरह के रोबो की संख्या बढ़ाई जा सकती है. इस तरह से रोबो का इस्तेमाल सेना और पुलिस में हो रही जन-हानि को भी कम कर सकता है. भविष्य में केपी-बोट को इस तरीके से विकसित किया जाएगा कि ये विस्फोटकों की पहचान करने में सक्षम रहे. सही वक्त पर विस्फोटक चीजों की पहचान होने से बड़े नुकसान से बचा जा सकता है.

Related Posts