पॉर्न देखने वाले हो जाएं सावधान, अब Google-Facebook रख रहे नजर

लैपटॉप या स्मार्टफोन पर 'इंकॉग्निटो मोड' पर स्विच करने पर भी आपके द्वारा देखी जाने वाली पॉर्न पर गुप्त रूप से नजर रखी जाती है.

mobile

नई दिल्ली: अगर आप ‘इंकॉग्निटो मोड’ का इस्तेमाल कर पॉर्नोग्राफी देख रहे हैं और सोच रहे हैं कि इसका किसी को पता नहीं चलेगा, तो आप गलत हैं. गूगल, फेसबुक और यहां तक कि ओरेकल क्लाउड भी आप पर चुपके से नजर बनाए रखते हैं.

लैपटॉप या स्मार्टफोन पर ‘इंकॉग्निटो मोड’ पर स्विच करने पर भी आपके द्वारा देखी जाने वाली पॉर्न पर गुप्त रूप से नजर रखी जाती है. माइक्रोसॉफ्ट, कानेर्गी मेलन विश्वविद्यालय और पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के एक नए संयुक्त अध्ययन में यह बात सामने आई है.

93% वेब पेज ऐसे हैं जो…
जांच में पता चला कि 93 प्रतिशत वेब पेज ऐसे हैं, जो यूजर्स के डेटा को थर्ड पार्टी संगठनों के लिए ट्रैक और लीक करते हैं. इसके लिए ‘वेबएक्सरे’ नामक एक उपकरण का उपयोग करके 22,484 सेक्स वेबसाइटों को टटोला गया.

अपने नमूने में यूजर्स को ट्रैक करने वाली 230 विभिन्न कंपनियों और सेवाओं की पहचान करने वाले शोधकर्ताओं ने कहा, “इन साइटों पर हो रही ट्रैकिंग कुछ प्रमुख कंपनियों द्वारा केंद्रित है.” गैर-पॉर्नोग्राफी-विशिष्ट सेवाओं में से, गूगल 74 प्रतिशत साइटों को ट्रैक करता है, ओरेकल 24 प्रतिशत और फेसबुक 10 प्रतशित साइटों को ट्रैक करता है.

पॉर्नोग्राफी-विशिष्ट ट्रैकरों में शीष 10 हैं- ईएक्सओ क्लिक (40 प्रतिशत), जूसीएड (11 प्रतिशत) और इरो एडवरटाइजिंग (9 प्रतिशत). अध्ययन में कहा गया है, “गैर-पॉर्नोग्राफी की शीर्ष 10 कंपनियां अमेरिका में हैं, जबकि पॉर्नोग्राफी-विशिष्ट की अधिकतर कंपनियां यूरोप में हैं.”

शोधकर्ताओं ने बनाई काल्पनिक प्रोफाइल
शोधकर्ताओं की टीम ने ‘जैक’ नाम का एक काल्पनिक प्रोफाइल बनाया, जो अपने लैपटॉप पर पॉर्न देखने का फैसला करता है. जैक अपने ब्राउजर में ‘इंकॉग्निटो मोड’ ऑन करता है और यह मान लेता है कि उसके कार्य अब निजी हैं. वह एक साइट को खोजता है और एक गोपनीयता नीति के लिए एक छोटी सी लिंक को स्क्रॉल करता है.

वह सोचता है कि गोपनीयता नीति के तहत आने वाली साइट उसकी निजी जानकारी की रक्षा करेगी, इसलिए जैक एक वीडियो पर क्लिक करता है. शोधकर्ताओं ने कहा, “जैक को पता नहीं है कि ‘इंकॉग्निटो मोड’ केवल यह सुनिश्चित करता है कि उसकी ब्राउजिंग हिस्ट्री उसके कंप्यूटर पर संग्रहीत न हो. वह जिन साइटों पर जाता है, उससे संबंधित ऑनलाइन कार्यों को थर्ड-पार्टी ट्रैकर्स देख और रिकॉर्ड कर सकते हैं.”

जैक द्वारा एक्सेस की गई सारी जानकारी से ये थर्ड-पार्टी ट्रैकर्स उन साइटों के यूआरएल की मदद से उसकी यौन इच्छाओं का भी अनुमान लगा सकते हैं. वे जैक से जुड़े डॉटा को बेच भी सकते हैं.

ये भी पढ़ें-

BSP सुप्रीमो Mayawati भाई पर कार्रवाई से तिलमिलाईं, BJP को बताया दलित विरोधी

इमरान का झूठ बेनकाब, बताया अरेस्ट लेकिन ऐश कर रहा भारत का गुनहगार हाफिज सईद

कुलभूषण जाधव को मिलेगी काउंसलर एक्सेस, ICJ के आदेश के आगे झुका पाकिस्तान

Related Posts