एक जगह आए 99 मोबाइल्‍स और लग गया ट्रैफिक जाम, Google Maps बना बेवकूफ

बर्लिन में एक शख्‍स ने छोटे से कार्ट में 99 फोन रख दिए. उसका अंदाजा था कि स्‍मार्टफोन्‍स को ट्रैक कर मैप्‍स ट्रैफिक दिखाएगा और हुआ भी यही.

Google Maps यूं तो दुनियाभर को रास्‍ता दिखाता है. ट्रैफिक से बचकर निकलना हो, लोग मैप्‍स में देख लेते हैं कहां ज्‍यादा भीड़ है. मगर तकनीक पर आंख बंद करके भरोसा ठीक नहीं. कम से कम एक वीडियो तो यही साबित करता है. दरअसल एक यूजर ने गूगल मैप्स को चकमा दे दिया. उसका वीडियो वायरल हो गया है.

बर्लिन निवासी साइमन वेकर्ट ने एक सुनसान रोड पर छोटे से कार्ट में 99 फोन रख दिए. उसका अंदाजा था कि स्‍मार्टफोन्‍स को ट्रैक कर मैप्‍स ट्रैफिक दिखाएगा और हुआ भी यही. ये योजना शख्स ने फेक ट्रैफिक जाम बनाने के लिए बनाई थी. इस योजना में ये शख्स पूरी तरह सफल भी रहा.

साइमन ने यह सब रिकॉर्ड कर अपने ब्लॉग और यूट्यूब पर डाल दिया. वीडियो में दिख रहा है कि वे गूगल ऑफिस के बाहर और बर्लिन की अन्य गलियों में एक कार्ट में 99 फोन रख कर खींच रहे हैं.

कार्ट में रखे सभी मोबाइल की लोकेशन ऑन कर दी गई थी. मोबाइल का GPS Google को डेटा भेजता है कि डिवाइस कितनी स्‍पीड से बढ़ रही है. इसी से अंदाजा लगता है कि रोड पर कितनी भीड़ है. गूगल मैप्‍स इस तरीके का इस्तेमाल दुनिया भर में ट्रैफिक डेटा को क्राउडसोर्स करने के लिए करता है. अगर लाइन लाल या मरून दिखाए दे तो मतलब है कि सड़क पर गाड़ियों की संख्या अधिक है और ट्रैफिक धीमा है.

साइमन ने पाया कि उनका रूट अचानक हरे से मरून हो गया. गूगल मैप ने उस सड़क पर भारी जाम बताया और उस सड़क से बचकर निकलने को कहा जबकि सड़क बिल्कुल खाली थी.

ये भी पढे़ें-

दिल्‍ली में करनी है वोटिंग तो फ्लाइट से आइए, ये कंपनी दे रही मुफ्त टिकट

लता मंगेशकर ने ‘बिट्टू’ को बर्थ-डे किया विश और हो गईं ट्रोल