इस क्लाउड प्रोजेक्ट को Google ने किया बंद, कहा- चीन को सर्विस देने की कोई योजना नहीं

Google के इस प्रोजेक्ट को उन देशों को क्लाउड सर्विस देने के लिए लाया जा रहा था जो अपनी सीमाओं के भीतर डेटा को सीमित और नियंत्रित करना चाहते हैं.
Isolated Region cloud project, इस क्लाउड प्रोजेक्ट को Google ने किया बंद, कहा- चीन को सर्विस देने की कोई योजना नहीं

Google ने कोरोना महामारी (Coronavirus Pandemic) और भू-राजनीतिक (geopolitical) कारणों के चलते “आइसोलेटेड रीजन” नाम के क्लाउड प्रोजेक्ट पर रोक लगा दी है. कथित तौर पर कंपनी चीन और दूसरे देशों के लिए क्लाउड सर्विस पर लगभग डेढ़ साल से काम कर रही थी. कंपनी ने कहा कि चीन को क्लाउड सर्विस की पेशकश का उनका कोई इरादा नहीं था.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक मई में बंद हुए आइसोलेटेड रीजन प्रोजेक्ट को उन देशों को क्लाउड सर्विस की पेशकश के लिए लाया जा रहा था जो अपनी सीमाओं के भीतर डेटा को सीमित और नियंत्रित करना चाहते हैं.

Google के दो कर्मचारियों ने ब्लूमबर्ग को बताया, ये प्रोजेक्ट डेटा और प्रोसेसिंग इन्फ्रास्ट्रक्चर को बनाने के लिए “Sharded Google” नामक एक बड़ी पहल का हिस्सा था जो कंपनी के बाकी नेटवर्क से पूरी तरह से अलग है. 2018 में “आइसोलेटेड रीजन” की शुरुआत चीनी नियमों के जवाब में हुई थी, जिसका मतलब है कि विदेशी तकनीक कंपनियां जो देश में डाटा एक्सेस करना चाहती हैं, उन्हें एक लोकल कंपनी के साथ जॉइंट वेंचर बनाने की आवश्यकता है जो यूजर डेटा पर कंट्रोल रखे. आइसोलेटेड रीजन चीन और दूसरे देशों में इस तरह की आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करने के लिए था, जबकि अमेरिकी को राष्ट्रीय सुरक्षा चिंता थी.

सूत्रों के मुताबिक इस प्रोजेक्ट को चीन के लिए जनवरी 2019 में ही रोक दिया गया था. इसके बाद मई में प्रोजेक्ट के पूरी तरह से रद्द किए जाने से पहले पूरा फोकस यूरोप और अफ्रीका था. हालांकि Google ने चीन के लिए क्लाउड प्लेटफ़ॉर्म के एक छोटे वर्जन की पेशकश करने पर विचार किया था.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts