Jio महंगा होने की बुरी खबर के साथ एक Good News भी आई है!

Jio नेटवर्क पर वॉइस कॉल फ्री हैं, इसलिए कंपनी को भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया जैसे ऑपरेटर्स को किए गए कॉल्स के लिए 13,500 करोड़ रुपये का भुगतान करना पड़ा है.

टेलिकॉम कंपनी Jio दूसरे ऑपरेटर्स पर फ्री-कॉलिंग बंद करने जा रही है. अब Jio ग्राहक अनलिमिटेड पैक रिचार्ज कराने के बावजूद दूसरे टेलिकॉम ऑपरेटर से फ्री में बात नहीं कर पाएंगे. यानी अनलिमिटेड पैक लेने पर भी अगर आप अपने Jio नंबर से एयरटेल, वोडाफोन, MTNL, BSNL जैसे दूसरे टेलिकॉम ऑपरेटर के नंबर पर फोन कॉल्स करना चाहते हैं तो आपको अलग से टॉप अप रिचार्ज करवाना होगा.

Jio यूजर्स को दूसरे नेटवर्क पर बात करने के लिए 6 पैसे प्रति मिनट की दर से भुगतान करना होगा. हालांकि नए नियम को बैलेंस करने के लिए कंपनी बराबर कीमत का फ्री डाटा भी देगी. आईयूसी यूजर्स को टॉप-अप वाउचर की खपत के हिसाब से एक्सट्रा डाटा देगी. वहीं दूसरे नेटवर्क से इनकमिंग फ्री रहेगी. 10 अक्टूबर के बाद किए जाने वाले सभी रिचार्ज पर ये शुल्क लागू होगा.

गौरतलब है कि Jio अब तक फ्री नेशनल कॉल सर्विस देता रहा है, यूजर्स को सिर्फ डाटा के लिए पैसे देने होते थे. नए नियम के बाद यूजर्स को दूसरे नेटवर्क पर वॉयस कॉल के पैसे देने होंगे.

ट्राई की ओर से टर्मिनेशन चार्ज शून्य न किए जाने तक कस्टमर्स को यह कॉलिंग चार्ज देना पड़ेगा. Jio ने बताया कि आईयूसी फीस के तौर पर पिछले तीन साल में कंपनी ने एयरटेल और वोडाफोन-आइडिया जैसे राइवल टेलिकॉम ऑपरेटर्स को लगभग 13,500 करोड़ रुपये का भुगतान अब तक किया है.

Jio ने एक बयान में कहा है कि जब तक टेलिकॉम ऑपरेटरों को अपने यूजर्स द्वारा अन्य ऑपरेटरों के नेटवर्क पर किए गए मोबाइल फोन कॉल के लिए पेमेंट करने की जरूरत पड़ रही है, तब तक 6 पैसा प्रति मिनट शुल्क ही लागू रहेगा. ये चार्ज Jio यूजर्स द्वारा दूसरे Jio नंबर पर किए गए कॉल और वॉट्सएप, फेसटाइम या ऐसे दूसरे प्लेटफॉर्म्स का उपयोग करके किए गए फोन और लैंडलाइन कॉल पर लागू नहीं होगा.

2017 में दूरसंचार नियामक ट्राई ने इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज (IUC) को 14 पैसे से 6 पैसे प्रति मिनट तक घटा दिया था और कहा था कि इसे जनवरी, 2020 तक खत्म कर दिया जाएगा. अब ट्राई ने रिव्यू के लिए एक कंसल्टेशन पेपर मंगवाया है कि क्या इस टाइमलाइन को बढ़ाने की जरूरत है. चूंकि Jio नेटवर्क पर वॉइस कॉल फ्री हैं, इसलिए कंपनी को भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया जैसे ऑपरेटर्स को किए गए कॉल्स के लिए 13,500 करोड़ रुपये का भुगतान करना पड़ा है.