बस एक नंबर से वॉट्सऐप पर इस तरह जांच करें Fake News की

WhatsApp यूजर्स किसी भी संदेहास्पद मैसेज की सत्यता की जांच करने के लिए टिपलाइन पर संदेश भेज सकते हैं जिसकी जांच PROTO के सत्यापन केंद्र द्वारा की जाएगी.

नई दिल्ली: लोकसभा चुनावों (Lok sabha Election) से पहले सोशल मैसेजिंग साइट वॅाट्सऐप (WhatsApp) ने फेक न्यूज(Fake News) और अफवाहों को रिपोर्ट करने और उसकी जांच करने के लिए एक नई टिप लाइन शुरू करने की घोषणा की है. WhatsApp पर चेकप्वाइंट टिप लाइन (+91-9643-000-888) को भारत स्थित मीडिया स्टार्टअप PROTO ने लॉन्च किया है.

क्या होती है Tip Line
टिप लाइन को हम वेटर को दी जाने वाली टिप की तरह समझ सकते हैं. जिस तरह हम वेटर को टिप देते हैं उसकी सर्विस से खुश होकर ये कुछ वैसा ही है लेकिन यहां कोई खुशी नहीं होती बल्कि ये एक नंबर होता है जो किसी मैसेज या किसी कंटेंट की जांच करने के लिए उपलब्ध कराया जाता है. जिस भी मैसेज की जांच करनी हो उसे इस नंबर पर भेजकर उसकी जांच करवाई जा सकती है. कंटेंट भेजे जाने वाले की पहचान गुप्त रखी जाती है.

लोकसभा चुनाव के दौरान फेक न्यूज और अफवाहों की जांच करने और एक डेटाबेस बनाने के लिए PROTO इस टिपलाइन का इस्तेमाल करेगी. वॅाट्सऐप (WhatsApp) ने इस प्रोजेक्ट के लिए भारतीय कंपनी की तकनीकी सहायता करने का भी ऐलान किया है.

संदेहास्पद मैसेज जिनकी सत्यता की जांच उपयोगकर्ता करना चाहता है, वह चाहे टैक्स्ट मैसेज हो, फोटो हो या वीडियो लिंक हो, की जांच यूजर्स कर पाएंगे. यह सुविधा अंग्रेजी भाषा के अलावा हिंदी, तेलुगु, बंगाली और मलयालम में भी मिलेगी.

PROTO के संस्थापक रितविज पारीख और नसर-उल-हादी ने कहा कि “इस परियोजना का लक्ष्य वॅाट्सऐप (WhatsApp) जैसे प्लेटफॅार्म्स पर गलत सूचनाओं की जांच करना है.” 2019 लोकसभा चुनाव 11 अप्रैल से 19 मई तक सात चरणों में होंगे और परिणाम 23 मई को घोषित किए जाएंगे. भारत में वॅाट्सऐप (WhatsApp) के 250 मिलियन से अधिक उपयोगकर्ता हैं.

ये भी पढ़ें – WhatsApp पर फिदा हुईं पार्टियां, चुनावों में 2.2 करोड़ को टारगेट करेंगे ग्रुप

ये भी पढ़ें – चुनाव आयोग का ये नियम पढ़ लीजिए, प्रधानमंत्री मोदी की सीट पर भी हो सकता है बैलेट पेपर से चुनाव