Never Slow Mode से गूगल यूजर कर सकेंगे फास्ट ब्राउजिंग

Share this on WhatsAppनयी दिल्ली गूगल, ये नाम सब जानते हैं. न जानते होते तो ये ख़बर न पढ़ पाते. जो गूगल जानते हैं गूगल क्रोम का नाम भी जानते होंगे. मतलब वो ब्राउजर जिसके जरिये इंटरनेट चलाया जाता है. लोग मजाक में कहते हैं कि इंसान इंटरनेट एक्स्प्लोरर सिर्फ एक बार इस्तेमाल करता है. […]

नयी दिल्ली

गूगल, ये नाम सब जानते हैं. न जानते होते तो ये ख़बर न पढ़ पाते. जो गूगल जानते हैं गूगल क्रोम का नाम भी जानते होंगे. मतलब वो ब्राउजर जिसके जरिये इंटरनेट चलाया जाता है. लोग मजाक में कहते हैं कि इंसान इंटरनेट एक्स्प्लोरर सिर्फ एक बार इस्तेमाल करता है. गूगल क्रोम इनस्टॉल करने के लिए. गूगल क्रोम की लोकप्रियता का कारण भी यही है, कि ये यूजर फ्रेंडली है. अपडेट होता रहता है. जैसे पिछले दिनों क्रोम पर पासवर्ड चेकअप क्रोम एक्सटेंशन ऐड हुआ था. ब्राउजर पर जल्द ही  ‘lookalike URLs’ फीचर भी आ सकता है, जो मिलते-जुलते नाम की फ़र्जी वेबसाइट्स से आपको बचाएगा.

पर असल मुद्दे की बात यह नहीं है. ख़बर ये है कि क्रोम Never Slow Mode पर काम कर रहा है. इससे होगा क्या? अच्छी और फास्ट ब्राउजिंग होगी. रिसोर्स लोडिंग और रनटाइम प्रोसेसिंग को रिस्ट्रिक्ट कर दिया  जाएगा. जिसके बाद वेबपेज तेजी से लोड होंगे. आम भाषा में कहें तो जल्दी ‘वेबसाइट्स  जल्दी खुलेंगी’.

ये पता कहां से चला?
इंटरनेट पर बहुत खोजी टाइप लोग रहते हैं, जिनका ज्यादातर वक्त नेट सर्फिंग में ही बीतता है. कोडिंग की दुनिया में घुसे रहते हैं. किसी को गूगल का अंदरूनी डिजाइन डॉक्यूमेंट मिला. जो उसने इंटरनेट वालों को दिखा दिया और बात फ़ैल गई. आप चाहें तो यहां देख सकते हैं…

कुल मिला के ये मेमोरी और डाटा यूज कम करेगा. पेज जल्दी खोलेगा. फ़ालतू के लार्ज स्क्रिप्ट्स ब्लॉक कर देगा. आप जल्दी-जल्दी वेबपेज देख सकेंगे. एक ड्रा-बैक जरूर हो सकता है कि ये फीचर ‘कंटेंट ब्रेक’ कर दे. इसका फर्क वेबपेज पर मौजूद फोटो और वीडियो की क्वालिटी पर भी पड़ेगा. पर गूगल को अपने यूजर का ख्याल है. इसका निदान वो खोज लेंगे.
फिलहाल, यह फीचर कब रिलीज हो सकता है, ये पता नहीं चला है. लेकिन गूगल पर नजर बनाए रखें ये ख़बर भी गूगल पर आ ही जाएगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *