भारत में बैन हुआ टिक-टॉक, अब नहीं कर सकेंगे डाउनलोड

भारत में अब कोई टिक-टॉक एप डाउनलोड नहीं कर पाएगा. गूगल ने प्ले स्टोर और एप्पल ने अपने एप स्टोर से इसे डाउनलोड करने पर रोक लगा दी है.
tiktok banned in indi, भारत में बैन हुआ टिक-टॉक, अब नहीं कर सकेंगे डाउनलोड

नई दिल्ली: केंद्र सरकार के आग्रह पर चीन के शॉर्ट वीडियो शेयरिंग एप टिक-टॉक के एक्सेस पर रोक लगा दी गई है. भारत में इस एप को 23 करोड़ बार डाउनलोड किया जा चुका है. इस एप को लेकर मद्रास उच्च न्यायालय द्वारा तीन अप्रैल को दिए गए फैसले पर सर्वोच्च न्यायालय ने रोक लगाने से मना कर दिया था. इसके बाद इलेक्ट्रॉनिक एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने गूगल और एप्पल से इस एप के देश में डाउनलोड पर रोक लगाने की याचिका दायर की थी.

मद्रास उच्च न्यायालय के मदुरै पीठ ने मंगलवार को टिक-टॉक से प्रतिबंध हटाने से मना कर दिया था, और 24 अप्रैल को इस मामले पर अगली सुनवाई का निर्णय लिया था. गूगल के एक प्रवक्ता ने बताया, “नीति के तहत हम अलग-अलग एप पर कोई टिप्पणी नहीं करते हैं, लेकिन हम जिस देश में काम करते हैं, वहां के नियम का पालन करते हैं.”

वहीं टिक-टॉक कंपनी का कहना है कि कंपनी को भारतीय न्यायायिक प्रणाली पर पूरा भरोसा है. टिक-टॉक के प्रवक्ता ने कहा, “हम आशावादी हैं कि जो भी परिणाम होगा, वह भारत के 12 करोड़ सक्रिय उपयोगकर्ता मानेंगे और टिक-टॉक के जरिए अपनी कलात्मकता और प्रतिदिन के खास पलों को कैद करेंगे.”

वहीं सर्वोच्च न्यायालय ने मद्रास उच्च न्यायालय के चाईनीज एप पर प्रतिबंध लगाने के आदेश पर फिलहाल सुनवाई करने से मना कर दिया और 22 अप्रैल को सुनवाई की अगली तारीख तय कर दी.

तीन अप्रैल को मद्रास उच्च न्यायालय ने टिक-टॉक द्वारा पोर्नोग्राफिक और अनुचित सामग्री उपलब्ध कराने की वजह से केंद्र को एप पर प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया था. टिक-टॉक प्रतिमाह अपने 5.4 करोड़ यूजर्स को वीडियो बनाने और साझा करने की सुविधा देता है और इनमें अनुचित सामग्री हो सकती है.

इस एप के यूजर मीम, गाने के बोल पर वीडियो बना कर फेसबुक, वाट्सएप और शेयर चैट पर शेयर करते थे. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए ज्यादातर वयस्क इस एप के बारे में जान गए थे.

बता दें टिक-टॉक एक चायनीज एप है, जो वीडियो पोस्ट के लिए इस्तेमाल होता है. साल 2018 से यह एप लोगों के बीच तेजी से लोकप्रिय हुआ है. बतौर यूजर टीन एज के लोग इसमें ज्यादा हैं. प्राइवेसी पर ध्यान दिए बगैर ये यूजर धड़ल्ले से वीडियो पोस्ट करते हैं. कई बार फनी दिखने के चक्कर में लोग अपनी ही संस्कृति का मजाक बना बैठते हैं.

Related Posts