आपका स्‍मार्टफोन बन सकता है कार की चाबी, सिर्फ इस चीज की है जरूरत

इस तकनीक को यूडब्ल्यूबी-वाली कारों, मोबाइल और अन्य स्मार्ट डिवाइस के प्रति जागरूकता लाने के मकसद से डिजाइन किया गया है.
smartphone car key technology, आपका स्‍मार्टफोन बन सकता है कार की चाबी, सिर्फ इस चीज की है जरूरत

एनएक्सपी सेमीकंडक्टर ने कहा है कि उसने अपने अल्ट्रा-वाइडबैंड (यूडब्ल्यूबी) चिप को नए ऑटोमोटिव इंटिग्रेटेड सर्किट (यूडब्ल्यूबीआईसी) के साथ जोड़ा है. अब ये स्मार्टफोन को कार की चाबी में बदल सकता है.

इस तकनीक को यूडब्ल्यूबी-वाली कारों, मोबाइल और अन्य स्मार्ट डिवाइस के प्रति जागरूकता लाने के मकसद से डिजाइन किया गया है. यानी कार यह जान पाएगी कि उसका मालिक कहां है.

उपभोक्ता अपनी जेब या बैग में रखे अपने फोन से कारों को खोल और शुरू कर सकते हैं. आप स्मार्टफोन के माध्यम से सुरक्षित पार्किंग का आनंद ले सकते हैं.

एनएक्सपी इंडिया के वाइस प्रेजिडेंट और इंडिया कंट्री मैनेजर संजय गुप्ता ने कहा, “आज हम मोटर वाहन और स्मार्टफोन टेक्नोलॉजी का एक तेजी से मेल देख रहे हैं. जो पूरी तरह से स्मार्ट गतिशीलता के अवसरों की एक पूरी नई दुनिया को अनलॉक कर रहा है.”

समय पर दवा लेने में मदद करेगा स्मार्टफोन
दूसरी तरफ, स्वास्थ्य खराब होने के लिए कई बार स्मार्टफोन को जिम्मेदार ठहराया जाता है, लेकिन दिल के मरीजों पर इस डिवाइस का सकारात्मक प्रभाव भी पड़ता है.

शोधकर्ताओं ने पाया है कि एक साधारण ऐप निर्धारित अवधि के लिए इन रोगियों को अपनी दवा लेने में मदद करने का एक प्रभावी तरीका हो सकता है. इससे समय से पहले मौत के खतरे को कम किया जा सकता है.

एक बार दिल का दौरा पड़ने के बाद मरीजों को फिर से इसे रोकने के लिए दवाइयां दी जाती हैं. हालांकि, अस्पताल से छुट्टी के बाद पहले 30 दिनों में चार में से एक मरीज कम से कम एक दवा को लेना बंद कर देता है.

इससे दिक्कतें पैदा होने के चलते फिर से अस्पताल में भर्ती होने की संभावना और समय से पहले मौत का खतरा बढ़ जाता है. वर्तमान में इसके पालन में सुधार के लिए कोई सरल और लागत प्रभावी रणनीति नहीं है.

ये भी पढ़ें-

ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लेने ब्राजील पहुंचे PM Modi, आतंकवाद की कमर तोड़ने पर होगी चर्चा

राष्ट्रपति शासन के बाद भी सरकार गठन की कोशिशें तेज, कौन मारेगा बाजी?

महाराष्‍ट्र में राष्‍ट्रपति शासन लगने के बाद भी सरकार बना सकते हैं BJP, शिवसेना, कांग्रेस, NCP

Related Posts