स्मार्टफोन यूजर्स के लिए गूगल ने रोल आउट किया ट्रू कॉलर जैसा फीचर, ऐसे करेगा काम

एंड्राइड यूजर इस एप के वेरीफाइड फीचर की वजह से कॉलर का नाम, कॉलर के बिजनेस का लोगो, कॉल की वजह और वेरिफिकेशन सिंबल चेक कर पाएंगे

गूगल ने एंड्रॉयड स्मार्टफोन यूजर्स के लिए वेरिफाइड कॉल्स (Verified Calls) नाम से नया फीचर रोल आउट किया है. इस फीचर से आपको अननोन और स्पैम कॉल्स को इग्नोर करने में आसानी होगी. गूगल का ये वेरीफाइड कॉल फीचर इसके फोन एप का हिस्सा है. इस एप की परफॉर्मेंस ट्रू कॉलर एप की तरह ही होगी. खास बात ये कि एप के जरिए किसी बिजनेस नंबर को वेरीफाइड कर कॉल आंसर रेट बढ़ाने में मदद मिलेगी. एंड्राइड यूजर जल्द ही इस एप को अपने स्मार्टफोन में डाउनलोड कर पाएंगे.

एप के वेरीफाइड फीचर की वजह से यूजर कॉलर का नाम, कॉलर के बिजनेस का लोगो, कॉल की वजह और वेरिफिकेशन सिंबल चेक कर पाएंगे. इस फीचर को लेकर गूगल ने अपने ब्लॉग में जानकारी दी है. फिलहाल इसे पायलट प्रोग्राम के तहत लॉन्च किया है. इस फीचर को कुछ इम्प्रूवमेंट के साथ इसे जल्द ही रोल आउट किया जाएगा.

बच्चों को मोबाइल देना हो सकता है खतरनाक, पैरेंट्स इन बातों पर करें अमल…

गूगल ने 6 एप्स को किया बैन

गूगल प्ले स्टोर से 6 एंड्राइड एप्स को बैन कर दिया गया है. ये खतरनाक एप यूजर्स के स्मार्टफोन में जोकर मालवेयर अटैक कर रहे थे. हैरान करने वाली बात ये है कि बैन किए गए एप्स को लगभग 2 लाख डिवाइस में डाउनलोड किया गया है. इससे पहले गूगल ने प्ले स्टोर से 11 एप्लीकेशन हटा दी थी, जोकि स्मार्टफोन में जोकर मालवेयर फैला रही थीं. बैन किए गए एप्स में Convenient Scanner 2, सेफ्टी App Lock, Emoji Wallpaper, Push Message- Texting & SMS, Separate Doc Scanner और Fingertip GameBox शामिल हैं.

ओराइमो ने बजट रेंज के साथ भारत में लॉन्च किया टेंपो 1एस स्मार्टवॉच, टीडब्ल्यूएस फ्रीपॉड्स2

साल 2017 में भी गूगल ने ऐसे ही मालवेयर की पहचान की थी जिसकी आड़ में बड़े लेवल पर बिलिंग फ्रॉड को अंजाम दिया था. Google ने 2017 में ब्रेड (Joker) की पहचान की थी, जिसके जरिए बड़े पैमाने पर बिलिंग फ्रॉड की गई है. इस साइबर अटैक में सबसे ज्यादा SMS फ्रॉड किए जाते हैं, क्योंकि यूजर की बैंक डिटेल्स से जुड़े मैसेज अक्सर SMS पर ही भेजे जाते हैं. इसके बाद गूगल ने एक पॉलिसी के तहत कई तरह के डिफेंस सिस्टम डेवलप किए थे. इसके साथ ही गूगल समय-समय पर ऐसे हार्मफुल एप्स को अपने प्लेटफॉर्म से हटाता रहता है.

चीनी कंपनी हुवावे को एक और झटका, सैमसंग और LG बंद कर सकती हैं डिस्प्ले यूनिट की सप्लाई

Related Posts