Flipkart, Amazon के सेल में खरीदारी करने से पहले जान लें ये बातें, नहीं तो हो जाएगा भारी नुकसान

कई बार ऐसा होता है कि भारी डिस्काउंट और लुभावने ऑफर के चक्कर में आकर हम ठगी का शिकार हो जाते हैं. इसलिए इन शॉपिंग के दौरान इन बातों का ध्यान रखना जरूरी है

इस हफ्ते दो ई-कॉमर्स कंपनियां फ्लिपकार्ट और अमेजन साल के सबसे बड़े सेल का आयोजन करने जा रही हैं. कल यानी 16 अक्टूबर से फ्लिपकार्ट के Big Billion Days सेल की शुरूआत होने जा रही है वहीं अमेजन के Great Indian Festival सेल की शुरूआत 17 अक्टूबर से होगी. इस सेल में आप स्मार्टफोन से लेकर होम अप्लायंसेज तक भारी डिस्काउंट पे खरीद सकते हैं. लेकिन कई बार ऐसा होता है कि भारी डिस्काउंट और लुभावने ऑफर के चक्कर में आकर हम ठगी का शिकार हो जाते हैं. इसलिए हमने सोचा क्यूं न आपको यह बताया जाए कि कैसे ऑनलाइन शॉपिंग के दौरान आप ठगी का शिकार होने से बच सकते हैं…

प्रोडक्ट और सेलर की करे जांच

अगर आप ऐसे बड़े सेल में शॉपिंग करने का मन बना रहे हैं तो इस बात का खास ध्यान रखें कि प्रोडक्ट किस सेलर द्वारा बेचा जा रहा है. प्रोडक्ट सेलेक्शन के दौरान यह जरूर देख लें कि सेलर फ्लिपकार्ट द्वारा अप्रूव्ड है या नहीं, अगर आप अमेजन के जरिए शॉपिंग कर रहे हैं तो  प्राइम या फिर अमेजन फुलफिल्ड सेलर्स से ही खरीदारी करें. इसके अलावा प्रोडक्ट की भी जांच करें कि वह प्रोडक्ट सही है या नहीं इसके लिए आप उसकी वॉरेंटी या फिर जिस कंपनी का वह प्रोडक्ट है उसके ऑफिशियल साइट पर जाकर उसके बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

ये भी पढ़ेंः अब WhatsApp यूजर्स के लिए शिकायत करना होगा आसान, जल्द आने वाला है फीचर

कैशबैक ऑफर की कर लें जांच

ई-कॉमर्स कंपनियां ग्राहकों को लुभाने के लिए सबसे ज्यादा कैशबैक ऑफर का इस्तेमाल करती हैं. इसलिए जरूरी है कि अगर आप इस ऑफर का लाभ लेने जा रहे हैं तो उसकी अच्छे जांच-पड़ताल कर लें और नियमों और शर्तों को ध्यान से पढ़ें. आपको बता दें कि कोई भी कैशबैक ऑफर ऊपरी सीमा के साथ आता है. इसके अलावा इसमें न्यूनतम खरीद राशि की भी शर्तें होती हैं जैसे अगर आपको किसी प्रोडक्ट पर 10 प्रतिशत तक का कैशबैक मिल रहा है लेकिन इसमें अधिकतम राशि 1000 रुपये निर्धारित है तो अगर आपके 10 प्रतिशत के हिसाब से 2000 रुपये भी बनेंगे तो भी आपको सिर्फ 1000 रुपये का ही कैशबैक मिलेगा. इसके अलावा यह भी ध्यान रखें कि कंपनी द्वारा यह कैशबैक आपके अकाउंट में जमा किया जा रहा है या फिर पैसे वॉलेट में भेजे जा रहे हैं. ऐसे में यह मजबूरी हो जाती है कि मिले हुए पैसे आपको उसी साइट पर शॉपिंग कर के खत्म करने पड़ते हैं.

ये भी पढ़ेंः कोरोनावायरस पैनडेमिक के बाद दुनिया पर मंडराया इन्फोडेमिक का खतरा, ऐसे करें बचाव

EMI ऑप्शन के चुनाव के दौरान रखें ध्यान

अगर आप किसी प्रोडक्ट को ईएमआई या फिर नो कॉस्ट ईएमआई ऑप्शन के जरिए खरीदने की प्लानिंग कर रहे हैं तो इन ऑप्शन्स का चुनाव करने के दौरान नियम और शर्तों को ध्यान से पढ़ें. अगर आप ईएमआई ऑप्शन ले रहे हैं तो इसका कैल्कुलेशन जरूर कर लें कि प्रोडक्ट पर आपको कहीं बहुत ज्यादा पैसे तो नहीं देने पड़ रहे हैं. वहीं अगर आप नो कॉस्ट ईएमआई के जरिए शॉपिंग कर रहे हैं तो इस बात की जांच जरूर कर लें कि कहीं आपसे प्रोसेसिंग फीस आदि के नाम पर अतिरिक्त शुल्क तो नहीं वसूला जा रहा है.

ये भी पढ़ेंः एक जैसे फीचर्स होने के बाद भी क्यूं iPhone 11 से 25 हजार रुपये महंगा है iPhone 12, खरीदने से पहले जान लें ये बातें

अन्य वेबसाइट्स पर भी करें जांच

अगर आपको किसी प्रोडक्ट पर भारी डिस्काउंट मिल रहा है तो उसके झांसे में न आएं. सबसे पहले प्रोडक्ट के बारे में पूरी तरह जांच-पड़ताल करें और फिर उस प्रोडक्ट के ऑफिशियल वेबसाइट या फिर अन्य ई-कॉमर्स वेबसाइट पर जाकर प्रोडक्ट के कीमत के बारे में जानकारी प्राप्त करें और फिर खरीदारी करें.

Related Posts