रोज 100 SMS की लिमिट हो जाएगी खत्‍म, TRAI जल्‍द ले सकता है बड़ा फैसला

TRAI ने ड्राफ्ट तैयार किया है, जिसमें साल 2012 में मैसेज से जुड़े लागू नियमों को वापस लेने का प्रस्ताव है. इसके तहत 100 मैसेज के बाद प्रति मैसेज पर 50 पैसे का लगने वाला चार्ज नहीं लगेगा.

मोबाइल यूजर्स के हित में बड़ा फैसला लेते हुए TRAI ने बड़ा प्लान तैयार किया है. अब मैसेज करना बहुत सस्ता होना वाला है. दरअसल मोबाइल से फ्री में रोज 100 मैसेज भेजने की लिमिट जल्द खत्म हो सकती है.

टेलिकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) ने मैसेज के लिए टैरिफ के नियम को लेकर ‘टेलिकम्युनिकेशन टैरिफ ऑर्डर 2020’ का ड्राफ्ट जारी किया है. TRAI का कहना है कि 100 मैसेज करने की डेली लिमिट के बाद लगने वाले 50 पैसे चार्ज को रखने की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि स्पैम मैसेज का पता लगाने के लिए पर्याप्त टेक्नॉलजी है.

दरअसल, TRAI ने स्पैम मैसेज पर रोक लगाने के लिए 50 पैसे का चार्ज लगाया है. ये चार्ज TCCCPR (टेलिकॉम कमर्शल कम्युनिकेशन्स कस्टमर प्रेफेरेंस रेग्युलेशन्स) के हिस्से के रूप में लागू हुआ है. हालांकि, अब TRAI का कहना है कि TCCCPR 2018 टेक्नॉलजी आधारित है और ये स्पैम मैसेज पर अंकुश लगा सकता है.

फिलहाल 100 मैसेज की लिमिट के बाद प्रति मैसेज पर कम से कम 50 पैसे चार्ज लगता है. ये नियम साल 2012 में लागू हुआ था. पिछले कुछ सालों से TRAI स्पैम मैसेज पर रोक लगाने के लिए टेलिकॉम कंपनियों को नए तरीके पेश करने पर जोर दे रहा है. साल 2017 में TRAI ने यूसीसी पर रोक के लिए TCCCPR पेश किया.

TRAI ने कहा TCCCPR 2018 के तहत निर्धारित नया रेग्युलेटरी फ्रेमवर्क टेक्नॉलजी आधारित है. ये UCC का पता लगाने के लिए टेक्नॉलॉजिकल सलूशन्स बताता है, जिनमें अडवांस्ड सिग्नेचर सलूशन्स और DCC डिटेक्ट सिस्टम शामिल है. इस फैसले को लागू करने के लिए TRAI ने अब टेलिकम्युनिकेशन्स टैरिफ ऑर्डर, 2020 का ड्राफ्ट तैयार किया है.

ये भी पढ़ें- 

भारत आने से पहले बोले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप- ‘बाद में करेंगे बड़ी ट्रेड डील’

पुलवामा एनकाउंटर : सिर्फ 30 मिनट में टॉप हिजबुल कमांडर समेत तीन आतंकियों का काम तमाम

Related Posts