ट्विटर पर जल्द ऐड होगा वॉयस मैसेज फीचर, यूजर को मिलेगा बेहतर अनुभव

इस फीचर की मदद से ट्विटर यूजर्स जल्द ही 140 सेकेंड लंबे ऑडियो ट्वीट को 280 शब्दों के कैप्शन के साथ पोस्ट कर पाएंगे. यूजर्स इस ऑडियो को अपने ट्वीट, रीट्वीट्स, कमेंट, रिप्लाई में शामिल कर पाएंगे.

  • TV9 Digital
  • Publish Date - 1:58 pm, Fri, 25 September 20
Twitter
ट्विटर

ट्विटर एक ऐसे नए फीचर पर काम कर रहा है, जिसकी मदद से यूजर्स अपने दोस्तों और परिवार के सदस्यों को डायरेक्ट मैसेज (डीएम) के जरिए वॉयस मैसेज रिकॉर्ड कर भेज पाएंगे. द वर्ज की रिपोर्ट के मुताबिक, ट्विटर पर डीएम के प्रोडक्ट मैनेजर एलेक्स एकरमैन-ग्रीनबर्ग ने कहा है कि कंपनी जल्द ही वॉयस डीएम पर टेस्ट शुरू करने वाली है.

ब्राजील वह पहला देश होगा, जहां वॉयस डीएम की टेस्टिंग पहले की जाएगी. रिपोर्ट में ग्रीनबर्ग के बयान के हवाले से कहा गया, “हम जानते हैं कि ट्विटर पर लोग सार्वजनिक व निजी तौर पर खुद को अभिव्यक्त करने के और भी विकल्प चाहते हैं.”

फेसबुक और इंस्टाग्राम के डायरेक्ट मैसेज में पहले से ही ऑडियो रिकॉर्डिग की सुविधा है. इस फीचर की मदद से यूजर्स जल्द ही 140 सेकेंड लंबे ऑडियो ट्वीट को 280 शब्दों के कैप्शन के साथ पोस्ट कर पाएंगे. यूजर्स अपने इस ऑडियो को अपने ट्वीट, रीट्वीट्स, कमेंट, रिप्लाई में शामिल कर पाएंगे.

ये भी पढ़ें-वाट्सएप लाएगा ‘एक्सपायरिंग मीडिया’ फीचर, बीटा एप में टेस्टिंग शुरू

लोग आपके वॉइस ट्वीट को दूसरे ट्वीट्स के साथ अपनी टाइमलाइन पर देख सकेंगे. कंपनी को उम्मीद है कि इससे उनके यूजर्स को अपनी बातें रखने में अधिक बेहतर अनुभव मिलेंगे.

इससे पहले ट्विटर ने एक और फीचर पर काम शुरू किया था. दरअसल ट्विटर (Twitter) यूजर्स को अपने ट्वीट्स और जवाबों को खुद एडिट करने का एक और मौका दे रहा है, ताकि यूजर हेट स्पीच (हानिकारक, अपमानजनक और घृणास्पद सामग्री) इस मंच पर रख रहा है तो वो दोबारा इस विषय में सोचे, वरना नीतियों का उल्लंघन करने के परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहे. ट्विटर ने कहा, अभी तक ट्विटर पर एडिट का बटन (Edit Button) नहीं है, लेकिन अपने मंच पर बड़े पैमाने पर उत्पीड़न से निपटने के लिए यूजर को खुद एडिट करने का टूल दे रहे हैं.

ये भी पढ़ें- सोनी ने भारत में लॉन्च किए ट्रू वायरलेस इअरबड्स, कीमत 14,999 रुपये

हालांकि ट्विटर का एडिट टूल (Edit Tool) लिमिटेड यूज के लिए है, और वर्तमान में यह केवल आईओएस यूजर्स के लिए उपलब्ध है. प्रॉम्प्ट उन ट्वीट्स पर पॉप-अप के रूप में आएगा जिन पर हानिकारक सामग्री है और ट्विटर एआई/एमएल डिवाइस ऐसे घृणित शब्दों को पहले ही पकड़ने की कोशिश करेंगे.

ये भी पढ़ें- ट्रैवल सेफ्टी को लेकर गूगल ने मैप में जोड़ा कोविड लेयर फीचर