रजा मुराद पर अदनान सामी का पलटवार, ‘ये आदमी एक विलेन है और बकवास करता है’

नागरिकता पर सवाल उठने पर अदनान सामी ने भी बिना देर किए रजा मुराद पर पलटवार किया. अदनान ने ट्विटर पर लिखा, 'मैंने सोचा था कि ये आदमी एक विलेन है और सिर्फ फिल्मों में बकवास करता है'.

देश में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) लागू हो गया है. देश के कई हिस्सों में इस कानून का समर्थन हो रहा है, तो कहीं इसका पुरजोर विरोध. बॉलीवुड भी इस मसले से अछूता नहीं है. जाने-माने एक्टर रजा मुराद ने सीएए को असंवेधानिक बताते हुए सिंगर-कंपोजर अदनान सामी की नागरिकता पर सवाल उठा दिए.

एक इंटरव्यू में रजा मुराद ने कहा, ‘अगर देश पाकिस्तानी गायक अदनान सामी को भारत की नागरिकता दे सकता है तो वो बाकी लोगों को क्यों नहीं दे रहा है?’  अदनान सामी की नागिरकता पर सवाल उठाते हुए रजा मुराद ने नागरिकता कानून को ही संविधान के विपरीत बता दिया. रजा मुराद के मुताबिक, ‘ये कानून हमारे संविधान के खिलाफ है. सरकार को तुरंत इस कानून को वापस लेना चाहिए.

रजा मुराद ने कहा कि मुझे केवल इस बात पर आपत्ति है कि आप केवल एक समुदाय को अलग रख रहे हैं और आप दिखा रहे हैं कि वे अलग हैं. आपने अदनान सामी को नागरिकता दी या नहीं ? वो मुसलमान हैं, वो पाकिस्तान के रहने वाले थे. उनके पिता पाकिस्तान एयरफोर्स में थे. मुझे अदनान सामी की नागरिकता से कोई दिक्कत नहीं.

वहीं अदनान सामी ने भी बिना देर किए रजा मुराद पर पलटवार किया. अदनान ने ट्विटर पर रजा के वीडियो को शेयर करते हुए लिखा, ‘मैंने सोचा था कि ये आदमी एक विलेन है और सिर्फ फिल्मों में बकवास करता है’.

बता दें अदनान सामी को नागरिकता 2016 में मोदी सरकार में दी गई थी. CAA को लेकर जहां बॉलीवुड दो खेमे में बंटा हुआ है. वहीं अदनान ने सरकार का पक्ष लेते हुए सीएए का समर्थन किया था. अदनान ने कहा था कि नागरिकता कानून उन धर्म के लोगों के लिए है जिन्हें धर्म के आधार पर प्रताड़ित किया जा रहा है. इस्लाम धर्म के लोगों को अपने धर्म के चलते अफगानिस्तान, पाकिस्तान या फिर फिर बांग्लादेश में ये प्रताड़नाएं नहीं झेलनी पड़ रही हैं. मुस्लिम समुदाय अब भी भारत की सिटिजनशिप के लिए अप्लाई कर सकता है. कानूनी तौर पर सभी का स्वागत है.

ये भी पढ़ें-

CAA: सीतारमण का पलटवार, 6 साल में पाकिस्‍तानी मुस्लिमों समेत 2,838 को दी नागरिकता

शिरडी बंद: बैकफुट पर आए उद्धव ठाकरे, विवाद सुलझाने के लिए बुलाई मीटिंग