PM मोदी को धन्यवाद कर बोले अजित पवार- मैं हमेशा NCP में रहूंगा, शरद पवार हमारे नेता

अजित पवार ने एक अन्य ट्वीट में कहा, "चिंता करने की बिलकुल जरूरत नहीं है, सब ठीक है. हालांकि थोड़े धैर्य की आवश्यकता है."

महाराष्ट्र की सियासत में उलटफेर का दौर लगातार जारी है. एक तरफ जहां एनसीपी प्रमुख शरद पवार बागी हुए अपने भतीजे अजित पवार को मनाने में लगे हुए हैं, वहीं दूसरी तरफ अजित पवार खुद शरद पवार को मनाते नजर आ रहे हैं.

अजित पवार ने ट्टीट करके कहा है कि शरद पवार हमारे नेता हैं. मैं एनसीपी में हूं और हमेशा रहूंगा. उन्होंने यह भी कहा कि बीजेपी और एनसीपी मिलकर महाराष्ट्र को एक मजबूत सरकार देंगी. चिंता की कोई बात नहीं है. हम जनता की बेहतरी के लिए काम करेंगे.


अजित पवार ने एक अन्य ट्वीट में कहा, “चिंता करने की बिलकुल जरूरत नहीं है, सब ठीक है. हालांकि थोड़े धैर्य की आवश्यकता है. आप सभी के समर्थन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद.”


इससे पहले अजित पवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ट्वीट कर शुक्रिया अदा किया. उन्होंने लिखा कि ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी शुक्रिया. हम एक स्थिर सरकार सुनिश्चित करेंगे जो महाराष्ट्र की जनता के कल्याण के लिए काम करेगी.’


महाराष्ट्र के डेप्युटी सीएम अजित पवार ने पीएम मोदी समेत तमाम बीजेपी नेताओं के ट्वीट का जवाब देते हुए उनको धन्यवाद दिया. अजित पवार ने गृह मंत्री अमित शाह, जेपी नड्डा, नितिन गडकरी, स्मृति ईरानी और राजनाथ सिंह के भी ट्वीट का जवाब देते हुए शुभकामनाओं के लिए उनको धन्यवाद कहा है.

अजित पवार के बयान के बाद अब एनसीपी चीफ शरद पवार ने ट्वीट करके कहा है कि ‘बीजेपी के साथ गठबंधन करने का सवाल ही नहीं उठता. एनसीपी ने सरकार बनाने के लिए सर्वसम्मति से शिवसेना और कांग्रेस के साथ गठबंधन का फैसला किया है. अजित पवार का बयान गलत और गुमराह करने वाला है.’

‘शरद पवार के खेमे में लौट रहे NCP विधायक’
दूसरी तरफ, एनसीपी नेताओं ने दावा किया कि अजीत पवार रविवार शाम को महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे सकते हैं. अजीत पवार के साथ गए विधायक पार्टी सुप्रीमो शरद पवार की तरफ लौट रहे हैं.

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने नाम नहीं जाहिर करने की शर्त के साथ आईएएनएस से कहा, “अजीत पवार आज शाम को इस्तीफा दे सकते हैं, क्योंकि अधिकांश विधायकों के शरद पवार के समर्थन में आने से उन पर दबाव बन रहा है.”

उन्होंने कहा कि शरद पवार ने अजीत पवार को भी वापस लौटने का संदेश भेजा है. हालांकि, उन्होंने अभी तक कोई प्रतिबद्धता जाहिर नहीं की है. पार्टी नेता ने यह भी कहा कि विधायक पवार के समर्थन में वापस लौटे हैं, क्योंकि उनके निर्वाचन क्षेत्रों में लोगों ने वरिष्ठ पवार के नाम पर मतदान किया.

पार्टी नेताओं के अनुसार, 54 विधायकों में से 48 विधायक शरद पवार के साथ आ गए हैं. उन्होंने कहा, “यहां तक कि बहुत से निर्वाचन क्षेत्रों में लोगों ने भाजपा के साथ जाने पर विधायकों को क्षेत्र में वापस नहीं आने की चेतावनी देते हुए पोस्टर लगाए है.”

शनिवार की सुबह, अजीत पवार 10-11 विधायकों के साथ राज्यपाल बी.एस.कोश्यारी के पास जाकर उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. देवेंद्र फडणवीस ने भी मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली. फडणवीस व जूनियर पवार के शपथ ग्रहण समारोह से, राकांपा, कांग्रेस व शिवसेना स्तबंध रह गए, क्योंकि तीनों पार्टियां वार्ता के अंतिम चरण में थीं.

ये भी पढ़ें-

आर्टिकल 356 पर PHD करने वाले सिंघवी की दलीलों पर टिका कांग्रेस-NCP-शिवसेना का भविष्य

महाराष्ट्र मामले में सोमवार सुबह 10.30 बजे होगी सुनवाई, SC ने कहा- दिखाएं समर्थन पत्र

54 विधायकों में से 53 शरद पवार खेमे में वापस, अजित पवार को मनाने की कोशिश जारी