भीख मांगने वाली की अंतिम इच्‍छा से पुलवामा शहीदों के परिजनों को मिले 6.61 लाख

जीते-जी देवकी शर्मा ने भीख मांगकर जो पैसा कमाया उसे अब उनके ट्रस्‍टी ने पुलवामा के शहीदों के नाम कर दिया है.

अजमेर। जम्‍मू-कश्‍मीर के पुलवामा में शहीद हुए CRPF जवानों को पूरा देश श्रद्धांजलि दे रहा है. कोई अपने शरीर पर शहीदों के नाम गुदवा रहा है तो कोई बॉर्डर पर जाकर पाकिस्‍तान से जंग लड़ने की इजाजत मांग रहा है. देश के बहुत से नागरिक कैंडल जलाकर श्रद्धांजलि दे रहे हैं तो अपने सामर्थ्‍य के अनुसार बहुत से लोगों ने शहीदों के परिजनों की मदद के लिए पढ़ाई का खर्च उठाने की भी घोषणा की है. शहीदों को श्रद्धांजलि देने वाले इन सब लोगों में एक दिवंगत महिला भी शामिल हैं. नाम है- देवकी शर्मा.

आप सोच रहे होंगे कि ये क्‍या माजरा है? देवकी शर्मा के दिवंगत होने से भी ज्‍यादा हैरानी की बात यह है कि वह इस दुनिया को छोड़ने से पहले भीख मांगकर गुजारा करती थीं. भीख मांगकर एक-एक पैसा जोड़ने वाली देवकी शर्मा के खाते से शहीदों के नाम पूरे 6.61 लाख रुपये भेजे गए हैं. जीते-जी देवकी शर्मा ने एक इच्‍छा जाहिर की थी- मेरी जमा पूंजी देश के काम आए. देवकी शर्मा ने अगस्‍त 2018 में दुनिया को अलविदा कह दिया था. वह जब जीवित थीं तब अंबे माता मंदिर के बाहर भीख मांगकर गुजारा किया करती थीं. वह दिनभर में भीख मांगकर जो भी पैसा एकत्रित करती थीं, उसे जमा करा दिया करती थीं.

टाइम्‍स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, देवकी शर्मा मौत के बाद अकाउंट को सेफ रखने के लिए दो लोगों को ट्रस्‍टी बना दिया था. ये दोनों व्‍यक्ति मंदिर की समिति से जुड़े हैं. इन्‍हीं लोगों ने देवकी शर्मा का अकाउंट खुलवाने में मदद की. इसके बाद प्रतिदिन देवकी उसी खाते में पैसा जमा करा देतीं. देवकी शर्मा जब प्राण त्‍यागे तब उन्‍होंने दोनों ट्रस्‍टी के सामने अंतिम इच्‍छा जाहिर करते हुए कहा कि इस पैसे को देश के काम में लगाया जाए.

अगस्‍त 2018 में महिला के निधन के बाद, पैसा ट्रस्‍टीज के पास ही रहा. जब पुलवामा में आतंकी हमले के दौरान 40 जवान शहीद हुए तब ट्रस्‍टीज ने पैसा डोनेट करने का फैसला लिया. अजमेर के कलेक्‍टर विश्‍व मोहन शर्मा ने बताया कि ट्रस्‍टीज बुधवार को डिस्ट्रिक्‍ट एडमिनिस्‍ट्रेशन के पास पहुंचे और शहीदों के परिवारों की मदद के लिए मुख्‍यमंत्री राहत कोष में पैसा दान करने की इच्‍छा जाहिर की.

देवकी शर्मा के ट्रस्‍टी ने कहा, ‘यह जानते हुए कि वह भीख मांगती हैं, उन्‍होंने उस पैसे का इस्‍तेमाल देश के लिए करने की इच्‍छा जताई और हमने उस पैसे का सबसे बेहतर इस्‍तेमाल करने का प्रयास किया और पुलवामा के शहीदों के नाम कर दिया.’ देवकी शर्मा के पैसे को पुलवामा के शहीदों के नाम किए जाने की खबर जंगल में आग की तरह फैली. अंबे माता के उस मंदिर में आने वाले श्रद्धालु भी बेहद खुश हैं. वे हमेशा नंदिनी शर्मा का सम्‍मान करते थे और कपड़े, खाना, पैसे देकर उनकी मदद किया करते थे.

Related Posts