ममता बनर्जी से मीटिंग के बाद खत्‍म हुई डॉक्‍टरों की हड़ताल

डॉक्टरों की मांग है कि मेडिकल प्रफेशनल्स के साथ होने वाली हिंसा से निपटने के लिए केंद्रीय कानून बनाए जाने की जरूरत है.

कोलकाता:  पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और आंदोलन कर रहे जूनियर डॉक्टरों के बीच राज्य सचिवालय में चल रही बैठक खत्म हुई. इस दौरान जूनियर डॉक्टरों ने मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में उन्हें हो रही दिक्कतों से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को अवगत कराया. ममता ने डॉक्टरों को पूर्ण सुरक्षा देने का वादा किया जिसके बाद खबर आ रही है कि डॉक्टर हड़तात खत्म कर देंगे.

बैठक में ममता बनर्जी ने निर्णय लिया है कि पश्चिम बंगाल के सभी अस्पतालों में नोडल ऑफिसर तैनात किए जाएंगे. साथ ही उन्होंने कहा कि वह हड़ताल खत्म होते ही घायल डॉक्टर से मिलने जाएंगी. वहीं, रेजिडेंट डॉक्टरों ने कहा कि वह ममता बनर्जी के वादों से संतुष्ट हैं.

पश्चिम बंगाल के स्वास्थ्य सचिव, राज्य मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य और राज्य के अधिकारी, 31 जूनियर डॉक्टर बनर्जी के साथ बैठक में मौजूद रहे. ममता बनर्जी ने बैठक में कहा कि राज्य सरकार ने किसी भी डॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज नहीं किया है. वहीं बैठक में जूनियर डॉक्टरों के ज्वाइंट फोरम ने मुख्‍यमंत्री से कहा, ‘कहा काम करते हुए हमें डर लगता है, एनआरएस के डॉक्टरों से मारपीट करने वालों को ऐसी सजा दी जाए जो दूसरों के लिए उदाहरण हो.’

डॉक्टरों की शिकायत पर ममता बनर्जी ने कहा, ‘हमने पर्याप्त कदम उठाए हैं, एनआरएस अस्पताल में हुई घटना में कथित तौर पर लिप्त पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है.’ उन्‍होंने कहा कि जो घटना हुई उसका उन्‍हें दुख है और सरकार डॉक्‍टरों की चिंता दूर करेगी.

सीएम ममता ने जूनियर डॉक्टरों के साथ बैठक में उनके प्रस्ताव के मुताबिक पश्चिम बंगाल के सभी अस्पतालों में शिकायत निपटारा इकाइयों के गठन का निर्देश दिया. ममता बनर्जी ने डॉक्‍टरों से हड़ताल खत्‍म करने की अपील की जिसके जवाब में डॉक्‍टरों ने कहा कि वह साथियों से बात करने के बाद ही इस पर कोई फैसला लेंगे.