हैदराबाद एनकाउंटर: 30 मिनट में कुछ ऐसे आरोपियों का काम तमाम, पढ़ें मिनट दर मिनट कहानी

पुलिस कमिश्नर वी सज्जनार ने बताया कि 10 पुलिसकर्मी आज सुबह आरोपियों को क्राइम सीन रीक्रिएट करने लाए थे. इस दौरान दो आरोपियों ने पुलिस से दो हथियार छीन लिए.

हैदराबाद एनकाउंटर में साइबराबाद पुलिस कमिश्नर वी. सज्जनार ने कई खुलासे किए. उन्होंने बताया कि आरोपियों को बार-बार समझाया गया कि वो भागने की कोशिश और पुलिस पर फायरिंग न करें लेकिन आरोपी नहीं माने. जिसके बाद आत्मरक्षा में पुलिस को गोलियां चलानी पड़ी. हालांकि इस वारदात के बाद पुलिस कार्रवाई पर सवाल उठ रहे हैं.

साइरबराबाद के पुलिस कमिश्नर वी सज्जनार ने सिलसिलेवार पूरी कहानी बयां की. उन्होंने बताया कि 27-28 नवंबर की रात को दिशा का गैंगरेप किया गया और फिर हत्या कर दी गई. इसके बाद शव को जला दिया गया. हमने साइंटिफिक सबूत इकट्ठा किए और नारायणपेट से चारों आरोपियों को गिरफ्तार किया. इसके बाद आरोपियों को रिमांड में लिया गया.

पुलिस कमिश्नर वी सज्जनार ने बताया कि 10 पुलिसकर्मी आज सुबह आरोपियों को क्राइम सीन रीक्रिएट करने लाए थे. इस दौरान दो आरोपियों ने पुलिस से दो हथियार छीन लिए. इसके बाद पुलिस ने आरोपियों को चेतावनी दी, लेकिन उन्होंने पुलिस टीम पर ही फायरिंग शुरू कर दी. इसके साथ ही पत्थर से भी हमला किया गया.

निर्भया के दोषियों को फांसी मिलना तय, गृह मंत्रालय…

पुलिस कमिश्नर वी सज्जनार ने कहा कि 4 और 5 दिसंबर को हमने चारों आरोपियों से पूछताछ की थी. इस पूछताछ के दौरान आरोपियों ने मोबाइल, पॉवर बैंक और घड़ी के बारे में बताया था. इन चीजों को बरामद करने और क्राइम सीन को रीक्रिएट करने के लिए हम आरोपियों को घटनास्थल पर ले गए थे.

पुलिस कमिश्नर ने कहा कि चारों आरोपियों को हथकड़ी नहीं पहनाई गई थी. इस वजह से चारों आरोपियों ने पुलिस से पिस्टल छीन ली. इसके बाद वह भागने लगे. पहले हमने उन्हें चेतावनी दी, लेकिन उन्होंने उलटे फायरिंग शुरू कर दी. इसके बाद पुलिसकर्मियों ने फायरिंग की. सुबह 5.45 से 6 बजे के बीच यानी 15 मिनट की मुठभेड़ में चारों आरोपी मारे गए.

Hyderabad encounter: Bollywood ने कहा ‘शाबाश तेलंगाना पुलिस’

कमिश्नर का दावा है कि एनकाउंटर के दौरान दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं. इसमें एक सब इंस्पेक्टर और एक कॉस्टेबल शामिल है. आरोपियों का महबूबनगर अस्पताल में पोस्टमार्टम कराया जा रहा है. हमने डीएनए प्रोफाइल ले लिया. हमें लगता है कि इन चारों ने कर्नाटक और तेलंगाना में कई आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया था.