जेपी नड्डा बने BJP के कार्यकारी अध्यक्ष, संसदीय बोर्ड की बैठक में हुआ ऐलान, देखें VIDEO

संसदीय बोर्ड की बैठक में सोमवार को PM मोदी और अमितशाह की मौजदगी में जेपी नड्डा को BJP का कार्यकारी अध्यक्ष चुना गया.

नई दिल्ली:  भारतीय जनता पार्टी ने सोमवार को कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में जेपी नड्डा को चुना है. अमित शाह फिलहाल दिसंबर 2019 तक अध्यक्ष रहेंगे बीजेपी के वरिष्ठ नेता राजनाथ सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दी. उन्होंने बताया कि, ”अमित शाह ने 5 वर्षों तक भारतीय जनता पार्टी के लिए अध्यक्ष की जिम्मेदारी निभाई और मैं कह सकता हूं कि उन्होंने सफलतापूर्वक अपने दायित्व का निर्वहन किया है.”

jp nadda, जेपी नड्डा बने BJP के कार्यकारी अध्यक्ष, संसदीय बोर्ड की बैठक में हुआ ऐलान, देखें VIDEO

”उनके कार्यकाल में कई राज्यों में भारतीय जनता पार्टी को सफलता मिली. केंद्र के चुनाव में भी संगठनात्मक जिम्मेदारी भी उन्होंने ही संभाली. जब मंत्रिमंडल का गठन हुआ तो प्रधानमंत्री ने उन्हें गृहमंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी. उनका कहना था कि मैं मंत्रालय को पूरी तरह संभालूंगा इसलिए बेहतर होगा कि अध्यक्ष का पद किसी और का सौंपा जाए. क्योंकि मेरी व्यस्तताएं बहुत रहेंगी मंत्रालय चलाने में स्वाभाविक रूप से दिक्कत होगी. इसलिए संसदीय बोर्ड की बैठक में निर्णय लिया गया कि जगत प्रकाश नड्डा पार्टी के अध्यक्ष होंगे.”

अभी तक जेपी नड्डा का राजनीतिक सफर

जेपी नड्डा का पूरा नाम जगत प्रकाश नड्डा है. उनका जन्‍म 2 दिसंबर 1960 को पटना में हुआ. जेपी नड्डा ने शुरुआती शिक्षा और बीए की डिग्री पटना से ही हासिल की. जेपी नड्डा ने हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी से एलएलबी किया.

जेपी नड्डा के पिता का नाम डॉक्‍टर नारायण लाल नड्डा है, जबकि उनकी माता का नाम कृष्‍णा नड्डा है. जेपी नड्डा की पत्‍नी का नाम मल्ल्किा नड्डा है, जो कि हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर हैं. मल्लिका नड्डा के पिता जबलपुर से लोकसभा सांसद रह चुके हैं.

जेपी नड्डा ने 1975 में जेपी आंदोलन से राजनीति में कदम रखा. इस आंदोलन में हिस्‍सा लेने के बाद जेपी नड्डा बीजेपी की छात्र ईकाई एबीवीपी में शामिल हो गए. 1977 में नड्डा ने छात्र संघ का चुनाव लड़ा और वह पटना यूनिवर्सिटी में सचिव चुने गए. जेपी नड्डा ने 1993 में पहला विधानसभा चुनाव बिलासपुर सीट से लड़ा और जीते भी.