7 महीने के बच्चे को भूख से तड़पता न देख सकी मां, गला घोंट कर दी हत्या

महिला का नाम रुखसार है, जो कि बिरतिया मोहल्ले की रहने वाली है. रुखसार के तीन बच्चे हैं और उसका पति मुंबई में रहता है.

कन्नौज:  बच्चे को जब भूख लगती है तो एक मां कैसे भी करके उसके लिए खाने का इंतजाम कर देती है, लेकिन जब खाने का इंतजाम करने में मां असमर्थ हो तो शायद उसे अपने सामने कुछ सही या गलत नजर नहीं आता. ऐसा ही कुछ उत्तर प्रदेश के कन्नौज में हुआ, जहां पर एक मां से अपने नवजात बच्चे की भूख बर्दाश्त नहीं हुई और महिला ने बच्चे का गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी.

यह मामला छिबरामऊ थाना क्षेत्र का है. पुलिस ने महिला को हिरासत में ले लिया है. पुलिस अधिकारियों के अनुसार, बच्चे के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है. पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद आरोपी महिला पर उचित कार्रवाई की जाएगी.

एक पुलिस अधिकारी द्वारा दी गई मामले की जानकारी के अनुसार, महिला का नाम रुखसार है, जो कि बिरतिया मोहल्ले की रहने वाली है. रुखसार के तीन बच्चे हैं और उसका पति मुंबई में रहता है. रुखसार और उसके पति का किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ, जिसके बाद कुछ महीनों से उसका पति उसे परिवार पालने के लिए पैसे नहीं भेज रहा था. ऐसी स्थिति में रुखसार कुछ न कुछ करके अपने पेट पाल रही थी.

रुखसार का 8 महीने का बेटा अहमद कुछ समय पहले बीमार हुआ था, जिसके इलाज में पैसा खर्च करने के बाद रुखसार पूरी तरह से कंगाल हो चुकी थी. बच्चों का और अपना पेट भरने के लिए उसके पास एक फूटी कोड़ी नहीं थी. गुरुवार को रुखसार के बेटे अहमद की तबियत बिगड़ी और वह उसे लेकर डॉक्टर के पास पहुंची, पर डॉक्टर ने बच्चे का इलाज करने और दवा देने से मना कर दिया, क्योंकि उसपर डॉक्टर का पहले से उधार था.

इस दौरान अहमद भूख से भी काफी तड़प रहा था. उसने तीन दिन से कुछ नहीं खाया था. अहमद भूख के कारण काफी रो रहा था, जिससे गुस्से में आकर महिला ने उसका गला दबाकर उसकी जान ले ली. यह बातें रुखसार की बेटी ने पुलिस को बताईं.

यह खबर झकझोर कर रख देने वाली है. हम रुखसार द्वारा उठाए गए कदम को किसी भी तरह से सही नहीं मानते हैं, लेकिन रुखसार की उस समय क्या स्थिति रही होगी उसपर भी गौर किया जाना चाहिए. इस घटना में उसका पति तो दोषी है ही, लेकिन साथ ही वह डॉक्टर भी दोषी है जिसने पिछला उधार न चुकाए जाने के कारण बच्चे का समय पर इलाज नहीं किया और उसे दवा नहीं दी.

 

ये भी पढ़ें-   ओडिशा बीजेपी के चीफ व्हिप को नहीं मिला सरकारी बंगला, बोले- फुटपाथ पर सो रहा हूं

कर्नाटक में फिर शुरू हुई ‘रिसॉर्ट की राजनीति’, नहीं थम रहा सियासी संकट